World

हांगकांग में चीन सरकार के खिलाफ रैली, लाखों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे

विज्ञापन

Beijing : हांगकांग में रविवार को चीन सरकार के खिलाफ बड़ी रैली का आयोजन किया गया. इस अवसर गर लाखों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे और सरकार के खिलाफ नारे लगाये. जान लें कि हांगकांग में  विरोध प्रदर्शन लगातार ग्यारह हफ्ते से चल रहा है. खबरों के अनुसार प्रशासन ने विक्टोरिया पार्क में रैली करने की इजाजत दी थी.  पुलिस ने हांगकांग सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट तक 3.7 किमी लंबा मार्च निकालने की इजाजत नहीं दी थी, लेकिन विक्टोरिया पार्क की रैली आखिरकार मार्च में बदल गयी और लोग  सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट सेंटर की ओर बढ़ने लगे. भारी बारिश के बावजूद जनता जमी रही. सड़कों पर हजारों की संख्या में रंगीन छाते नजर आये.  प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे थे, कैरी लैम, स्टेप डाउन (कैरी लैम, कुर्सी छोड़ो).

हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन अपने चरम पर है, डेमोसिस्टो नाम का संगठन इस आंदोलन की अगुवाई कर रहा है. डेमोसिस्टो युवाओं का एक संगठन है, हांगकांग में लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन करता है. जोशुआ वांग, एग्निस चो और नाथन लॉ डेमोसिस्टो के नेता हैं.

भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत होगी. तो केवल पाक अधिकृत कश्मीर पर होगी : राजनाथ सिंह

हांगकांग बॉर्डर के पास चीनी सेना ने परेड की

बता दें कि कैरी लैम हांगकांग के चीफ एग्जिक्यूटिव हैं.  गुरुवार को हांगकांग बॉर्डर के पास चीनी सेना ने परेड की.  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को इसकी घोषणा की थी. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि हमारी इंटेलिजेंस ने हमें बताया है कि चीन की सरकार हांगकांग की सीमा की ओर सेना बढ़ा रही है. कहा कि सभी लोग शांत और सुरक्षित रहें. इस खबर के आने के बाद चीनी विरोधी प्रदर्शनकारियों की संख्या और बढ़ गयी.  हांगकांग साल 1997 में चीन को ब्रिटेन से वापस मिला था. वहां नागरिक अधिकारों और आजादी की बहाली के लिए वन कंट्री टू सिस्टम्स नामक एक ढांचे की स्थापना की गयी.

हांगकांग में जून में नये प्रत्यर्पण बिल लाये जाने के बाद ही इसके खिलाफ वहां पर जोरदार प्रदर्शन चल रहा है. विरोधि‍यों का कहना है कि इससे हांगकांग की स्वायत्त स्थि‍ति में बदलाव आयेगा. हांगकांग पुलिस ने शनिवार और रविवार को होने वाले प्रदर्शन को आम लोगों की सुरक्षा के कारणों की वजह से प्रतिबंधित कर दिया, हालांकि प्रदर्शनकारियों को रविवार को पुलिस हिंसा के खिलाफ सिर्फ एक रैली करने की अनुमति दी गयी. हांगकांग पुलिस ने खुलासा किया है कि जून में प्रत्यर्पण बिल के खिलाफ शुरू हुए आंदोलन में 748 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.  सरकार विरोधी और पुलिस विरोधी प्रदर्शन पर रोक लगाने की प्रशासन की कोशिश नाकाम रही है.

 प्रदर्शनकारियों की मांगें

प्रदर्शनकारियों की  पांच मांगें हैं.  नये प्रत्यर्पण विधेयक को वापस लिया जाये, हांगकांग के चीफ एग्जिक्यूटिव कैरी लैम पद छोड़ें,    प्रदर्शनों को दंगा मानने वाले डिक्लेरेशन को डिनोटिफाई किया जाये,  सच्चा सार्वभौमिक मताधिकार मिले,  पुलिस द्वारा हिरासत में लिये गये या गिरफ्तार किये गये सभी लोगों को रिहा किया जाये.

इसे भी पढ़ें – जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा,  स्वतंत्रता उन लोगों पर जहर उगलने का माध्यम बन गयी  है, जो अलग तरह से सोचते हैं

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close