Dharm-JyotishTOP SLIDER

रक्षाबंधन आज, भाइयों की कलाई में सजेगा बहनों का प्यार

Ranchi: भाई-बहन के प्रेम का त्योहार रक्षाबंधन पूरे देश में मनाया जा रहा है. रक्षाबंधन सावन पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है. इस दिन बहन अपने भाई को राखी बांधती है और भाई जीवनभर बहन की रक्षा का वचन देता है. इस साल राखी 22 अगस्त, रविवार को है. रक्षाबंधन पर इस बार न तो ग्रहण की छाया रहेगी और न ही भद्रा का साया. बहनों को सुबह में ही भद्रा का प्रभाव होने के कारण दिन भर राखी बांधने का मुहूर्त मिल रहा है. इस बार रक्षाबन्धन पर कई सुबह संयोग बन रहे हैं. संयोग भाई-बहन के लिए बहुत ही शुभ साबित होंगे.

क्या कहता है ज्योतिषशास्त्र

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार इस बार रक्षाबंधन पर शोभन योग बन रहा है. 22 अगस्त की सुबह 10 बजकर 34 मिनट तक शोभन योग रहेगा. ये योग मांगलिक कार्यों के लिए बेहद शुभ माना जाता है.

इस योग के दौरान की गई यात्रा बहुत कल्याणकारी साबित होती है. इसके साथ ही इस दिन शाम को 7 बजकर 40 मिनट तक घनिष्ठा योग रहेगा. ज्योतिष के अनुसार, धनिष्ठा नक्षत्र का स्वामी मंगल ग्रह है.

इस नक्षत्र में जन्में लोगों का अपने भाई-बहन के प्रति विशेष प्रेम होता है. इसलिए इस नक्षत्र में रक्षाबंधन का पड़ना भाई-बहन के आपसी प्रेम को बढ़ाएगा. इस बार भद्राकाल न होने की वजह से दिनभर में किसी भी समय राखी बांधी जा सकती है. रक्षा बंधन पर इस बार राखी बांधने के लिए 12 घंटे 13 मिनट की शुभ अवधि रहेगी.

सुबह 5 बजकर 50 मिनट से लेकर शाम 6 बजकर 3 मिनट तक किसी भी वक्त राखी बांध सकते हैं. वहीं भद्रा काल 23 अगस्त को सुबह 5 बजकर 34 मिनट से 6 बजकर 12 मिनट तक रहेगा.

इसे भी पढ़ें :कोरोना महामारी में नौकरी गंवाने वाले कर्मियों का पूरा पीएफ 2022 तक भरेगी सरकार

रक्षाबंधन 2021 पर बन रहा है यह महा संयोग

साल 2021 का रक्षाबंधन चार विशिष्ट योगों से परिपूर्ण है. यह महा योग पूरे 50 साल बाद बन रहा है. 50 साल बाद रक्षा बंधन के पर्व पर सर्वार्थसिद्धि, कल्याणक, महामंगल और प्रीति योग एक साथ बन रहें हैं.

इसके पहले यह संयोग 1981 में एक साथ बने थे. इन चारों महा योगों से इस साल के रक्षाबंधन का महात्म्य बहुत अधिक बढ़ गया है. इस अद्भुत योग के मध्य भाई और बहन के लिए रक्षा बंधन की रस्म अति विशेष कल्याणकारी होगी.

इसे भी पढ़ें :झारखंड को मिली कोविशील्ड और कोवैक्सीन की चार लाख डोज

क्या है रक्षाबन्धन का इतिहास

जब युधिष्ठिर इंद्रप्रस्थ में राजसूय यज्ञ कर रहे थे उस समय सभा में शिशुपाल भी मौजूद था. शिशुपाल ने भगवान श्रीकृष्ण का अपमान किया तो श्रीकृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से उसका वध कर दिया.

लौटते हुए सुदर्शन चक्र से भगवान की छोटी उंगली थोड़ी कट गई और रक्त बहने लगा. यह देख द्रौपदी आगे आईं और उन्होंने अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर श्रीकृष्ण की उंगली पर लपेट दिया. इसी समय श्रीकृष्ण ने द्रौपदी को वचन दिया कि वह एक-एक धागे का ऋण चुकाएंगे.

इसके बाद जब कौरवों ने द्रौपदी का चीरहरण करने का प्रयास किया तो श्रीकृष्ण ने चीर बढ़ाकर द्रौपदी के चीर की लाज रखी. कहते हैं जिस दिन द्रौपदी ने श्रीकृष्ण की कलाई में साड़ी का पल्लू बांधा था वह श्रावण पूर्णिमा का दिन था और यहीं से शुरू हो गई बहन द्वारा भाई को रक्षासूत्र बांधने की परंपरा.

इसे भी पढ़ें :200 करोड़ की पालोजोरी ग्रामीण जलापूर्ति योजना का सीएम को करना था शिलान्यास, रणधीर सिंह ने काट दिया फीता, मिथिलेश ठाकुर नाराज

Related Articles

Back to top button