न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अरुण नाग हत्याकांड के मुख्य आरोपी राजेश नायक ने किया सरेंडर

दो आरोपी पहले ही कर चुके हैं आत्मसमर्पण

23

Ranchi: रांची यूनिवर्सिटी के रिटायर्ड कर्मी अरुण नाग हत्याकांड के मुख्य आरोपी राजेश नायक ने पुलिस की आंखों में धूल झोंकते हुए, गिरफ्तार होने से बचते हुए शनिवार को कोर्ट में सरेंडर कर दिया. पुलिस को इसकी जानकारी तब हुई जब चुटिया थाना की पुलिस राजेश नायक के घर में कुर्की जब्ती करने का वारंट लेने कोर्ट गई थी. तब वहां पुलिस को सूचना मिली कि हत्याकांड के मुख्य आरोपी राजेश नायक ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया.

ज्ञात हो कि 15 मार्च 2018 को अरुण नाग की अपराधियों ने घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस मामले में मृतक के बेटे रौनक ने छह लोगों के खिलाफ नामजद और दो अज्ञात पर हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई थी. अरुण हत्याकांड में दो आरोपियों ने 22 मार्च को ही कोर्ट में सरेंडर कर दिया था. जिसमें तेली टोली के निवासी अरुण साहू और लोअर चुटिया के संजू साहू शामिल थे. चुटिया पुलिस राजेश नायक को रिमांड लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दाखिल करेगी.

कैसे हुई थी हत्या

15 मई 2018को चुटिया थाने से महज 400 मीटर की दूरी पर अपराधियों ने अरुण नाग को घर में घुसकर गोली मार दी थी. अरुण नाग रांची विश्वविद्यालय से क्लर्क के पद से नौ माह पहले सेवानिवृत्त हुए थे. जिस घर में अरुण नाग अपने परिवार के साथ रह रहे थे. उसे कुछ दलालों और दबंग किस्म के लोगों ने फर्जी दस्तावेज के सहारे पूर्व में ही बेच दिया था. जानकारी मिलने पर वह कोर्ट की शरण में गये थे. लंबी कानूनी लड़ाई के बाद हाल ही में उन्होंने अपने घर पर फिर से मालिकाना हक हासिल किया था. लेकिन कुछ ही दिन के बाद अपराधियों ने उनकी हत्या कर दी.

पांच करोड़ के लिए हुई हत्या

silk_park

चुटिया थाना क्षेत्र के पावर हाउस के समीप रहने वाले रिटायर्ड कर्मचारी अरुण नाग की हत्या पांच करोड़ रुपए के लिए हुई थी. पुलिस की जांच में यह खुलासा हुआ था कि अरुण नाग की हत्या के पीछे नामकुम निवासी राजेश नायक का हाथ था. अरुण नाग के पास जितनी जमीन थी, उसकी पावर ऑफ एटॉर्नी राजेश नायक ने बना ली थी. उस वक्त राजेश नायक को पुलिस पकड़ने उसके घर गई तो वह फरार मिला. जिसके बाद अरुण नाग हत्याकांड के मुख्य आरोपी राजेश नायक ने पुलिस को चकमा देते हुए शनिवार को कोर्ट में सरेंडर कर दिया.

इसे भी पढ़ेंःगढ़वा की बेटी के सवालों का CM के पास नहीं जवाब, पूछा- छह साल दौड़े, वाजिब पैसा नहीं मिला

इसे भी पढ़ेंःएक ही झटके में काट दिया गैर मजरूआ भूमि के 72 वर्ष का लगान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: