न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रजत शर्मा की मुश्किलें बढ़ीं, डीडीसीए से हटाने के लिए आठ सदस्यों ने प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किये

241

New Delhi: दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के अध्यक्ष रजत शर्मा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. डीडीसीए के निदेशक मंडल के आठ सदस्यों ने रजत शर्मा की सभी शक्तियों को वापस लेने के लिए एक संयुक्त प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किये हैं. हालांकि, निदेशक मंडल में सरकार के प्रतिनिधि गौतम गंभीर सहित आठ अन्य ने इस प्रस्ताव पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं. इस निदेशक मंडल में कुल 16 सदस्य हैं. यह निदेशक मंडल डीडीसीए की फैसले लेनेवाली इकाई है. आठ सदस्यों के इस प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करने से रजत शर्मा को सुचारू रूप से कार्य करने में परेशानी हो सकती है.

इसे भी पढ़ें – बाबूलाल मरांडी को माओवादियों का धमकी भरा पत्र- झाविमो को चुनाव नहीं लड़ने को कहा

पहले से ही है नाराजगी

hosp3

रविवार को हुई बैठक के दौरान जिन सदस्यों ने प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किये, उनमें विनोद तिहारा, राजन मनचंदा, संजय भारद्वाज, आलोक मित्तल, अपूर्व गुप्ता, एसएन शर्मा, सुधीर अग्रवाल और नितिन गुप्ता शामिल हैं. तिहारा और पूर्व क्रिकेटर भारद्वाज शुरुआत से ही रजत शर्मा के विरोधी रहे हैं. उन्होंने कहा था कि उन्हें रजत शर्मा के कामकाज का तरीका पसंद नहीं है. तिहारा को सचिव पद से निलंबित किया गया था और उन्होंने इसके ख़िलाफ़ अदालत का दरवाजा भी खटखटाया गया था.

इसे भी पढ़ें – शहरी क्षेत्रों में लोगों की सूखेगी हलक, रोजाना पानी की जरूरत 1616.35 लाख गैलन, उपलब्ध सिर्फ 734.35 लाख

क्या है प्रस्ताव में

इस प्रस्ताव में कहा गया है कि डीडीसीए के दैनिक कामकाज के लिए दो जुलाई 2018 को निदेशक मंडल ने अध्यक्ष को जो शक्तियां दी थीं, उन्हें वापस लिया जाता है और सभी फैसले शीर्ष परिषद करेगी. हम इस बात का प्रस्ताव रखते हैं कि हमने मामले की अहमियत को देखते हुए इसे पारित किया है. इस मुद्दे को शीर्ष परिषद की अगली बैठक में उठाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – चौकीदार चोर है वाले बयान पर राहुल को अवमानना का नोटिस, SC ने मांगा जवाब

शक्तियों को वापस लेने के लिए पूर्ण बहुमत होना चाहिए

डीडीसीए के एक सदस्य ने कहा कि रजत शर्मा की शक्तियों को पूर्ण रूप से वापस लेने के लिए बहुमत होना चाहिए और उनका विरोध कर रहे निदेशकों के पास बहुमत नहीं है. उनके पक्ष में 16 में से आठ सदस्य हैं. अगर उन्हें एक और हस्ताक्षर मिल भी जाता है तो अध्यक्ष उनके फैसले पर रोक लगाने के लिए अदालत का रुख कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि इससे डीडीसीए में एक और गतिरोध उत्पन्न होगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक वे अन्य प्रशासक को नियुक्त नहीं कर सकते.

इसे भी पढ़ें – इस चुनाव में भी पर्यावरण नहीं बन पाया किसी भी दल का मुद्दा

बीसीसीआइ प्रशासकों के पास जायेगा मामला

इस मामले को अब बीसीसीआइ की प्रशासकों की समिति के समक्ष रखा जाएगा. हम निदेशक मंडल के फैसले को भेजने की तैयारी कर रहे हैं. बीसीसीआइ के नए संविधान के मुताबिक, सभी शक्तियां शीर्ष परिषद के पास होंगी ऐसे में डीडीसीए की निदेशक मंडल का यह प्रस्ताव कानूनी रूप से बाध्यकारी होगा या नहीं यह भी देखना होगा. निदेशक मंडल ने इसके साथ ही मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) जीआर सक्सेना को भी हटाने की सिफारिश की है.

इसे भी पढ़ें – हंस राज हंस को BJP ने उत्तर-पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट से बनाया उम्मीदवार, उदित राज का कटा टिकट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: