Khas-KhabarNational

राजस्थानः गहलोत की बैठक के बाद साफ होगी तस्वीर? रघुवीर मीणा बन सकते हैं प्रदेश अध्यक्ष

सचिन पायलट के खिलाफ एक्शन ले सकती है कांग्रेस

Jaipur: राजस्थान की सियासत में उछल-पुथल है. सचिन पायलट के बगावती तेवर के बीच गहलोत सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. वहीं सूत्रों की मानें तो सोमवार सुबह होनेवाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद तस्वीर बहुत हद तक साफ हो सकती है.

सचिन पायलट का दावा है कि उनके पास 30 के करीब विधायक हैं और सभी उनके साथ जयपुर से बाहर हैं. दूसरी ओर अशोक गहलोत अपनी सरकार बचाने में जुटे हैं.

इसे भी पढ़ेंःभाजपा में शामिल हो सकते हैं सचिन पायलट, 30 विधायक भी साथ!

विधायक दल की बैठक में हो सकता है फैसला

अशोक गहलोत से नाराज चल रहे सचिन पायलट पर कांग्रेस भी कड़ा रूख अख्तियार करने के मूड में है. 30 विधायकों का दावा करनेवाले पायलट दिल्ली में हैं. वहीं सोमवार सुबह साढ़े 10 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई गयी है. सूत्रों की मानें तो जो भी इस बैठक में शामिल नहीं होगा, पार्टी उसके खिलाफ एक्शन ले सकती है. कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडे ने कहा कि विधायकों को सोमवार सुबह 10.30 बजे होने वाली बैठक में शामिल होने के लिए व्हिप जारी किया गया है. बैठक में भाग नहीं लेने वाले विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

खबर है कि विधायक दल की बैठक में अंतिम निर्णय होगा, जो इस बैठक में नहीं आएगा उसे पार्टी की सदस्यता से हाथ धोना पड़ेगा. बैठक में नहीं शामिल होने पर सभी को पार्टी से निकाला जा सकता है. इसके साथ ही राजस्थान का नया प्रदेश अध्यक्ष चुना जाएगा. सूत्रों की मानें कांग्रेस पार्टी रघुवीर मीणा को प्रदेश अध्यक्ष बना सकती है.

इसे भी पढ़ेंःपूर्व विधायक अनंत प्रताप समेत 80 नये कोरोना संक्रमित मिले, झारखंड में हुए 3760 केस

गहलोत सरकार के पास 109 विधायकों का समर्थन: पांडे

इधर कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडे ने दावा किया है कि राज्य के 109 विधायक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में हैं और उन्होंने इस संबंध में एक समर्थन पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं. उन्होंने कहा कि कुछ और विधायक भी मुख्यमंत्री गहलोत के संपर्क में हैं और वे भी समर्थन पत्र पर हस्ताक्षर कर देंगे.

राजस्थान में जारी राजनीतिक उठा पटक के बीच पांडे ने मुख्यमंत्री निवास पर रविवार देर रात ढाई बजे संवाददाताओं से कहा, ‘109 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार और सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी के नेतृत्व पर पूरा विश्वास जताते हुए पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं. कुछ अन्य विधायकों की भी मुख्यमंत्री से फोन पर बात हुई है. वे भी पत्र पर हस्ताक्षर करेंगे.’’

30 विधायक मेरे साथ- पायलट

उल्लेखनीय है कि पायलट ने रविवार रात दावा किया कि अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है और 30 से अधिक विधायकों ने उन्हें समर्थन देने का वादा किया है. उन्होंने कहा कि उन्हें समर्थन देने वाले इन विधायकों में कांग्रेस के विधायक और निर्दलीय विधायक शामिल हैं.

एक अधिकारिक बयान में पायलट ने कहा कि वह सोमवार को होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे. एक बयान में कहा गया था, ‘राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सचिन पायलट सोमवार को होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे.’

इसे भी पढ़ेंःभारतीय सेना को मिलेंगी अब 72 हजार असॉल्ट अमेरिकी राइफलें, इंसास की जगह लेंगी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close