न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजस्थान : नौकरी मिलेगी नहीं, जी कर क्या करेंगे… ट्रेन के आगे कूदे चार युवक

चुनाव के इस माहौल में कांग्रेस इस मुद्दे को भुनाने में जुट गयी है. कांग्रेस ने इस मामले में भाजपा व केंद्र की राजग सरकार को आड़े हाथों लिया है.

451

 Jaipur  : राजस्थान के अलवर में बेरोजगारी से परेशान चार दोस्तों द्वारा एक साथ ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी किये जाने के मामले ने राजनीतिक बवाल खड़ा कर दिया है.  चुनाव के इस माहौल में कांग्रेस इस मुद्दे को भुनाने में जुट गयी है. कांग्रेस ने इस मामले में भाजपा व केंद्र की राजग सरकार को आड़े हाथों लिया है. बता दें कि राज्य में सात दिसंबर को विधानसभा चुनाव है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसी रविवार को अलवर शहर में चुनावी सभा करने वाले हैं. घटना मंगलवार शाम की बतायी गयी है. उस दिन चार युवा दोस्त एक साथ चलती ट्रेन के आगे कूद गये. इस घटना में तीन दोस्तों की मौत घटनास्थल पर ही हो गयी. पुलिस सूत्रों के अनुसार चारों युवकों द्वारा आत्महत्या के वास्तविक कारणों की जानकारी अभी नहीं मिल पायी है. प्रारंभिक जांच से पता चला है कि बेरोजगारी के कारण युवक डिप्रेशन में थे. पुलिस ने बताया कि छह युवक मंगलवार शाम रेल की पटरियों के पास खड़े थेे. ट्रेन के आते ही समूह में से चार युवक ट्रेन के आगे कूद गये, जिनमें से मनोज (24), सत्यनारायण मीणा (22) और ऋतुराज मीणा की मौत वहीं पर हो गयी, जबकि अभिषेक मीणा (22) की गुरुवार को जयपुर में इलाज के दौरान मौत हो गयी. पुलिस अधिकारी के अनुसार बाकी दो दोस्तों राहुल और संतोष ने पुलिस को घटना की जानकारी दी.

मनोज और सत्यनारायण स्नातक थे और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे थे

अलवर के पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि घटना के बारे में कई तरह के तथ्य सामने आ रहे हैं. हम मामले की जांच कर रहे हैं. जांच पूरी होने के बाद ही कुछ स्पष्ट होगा. एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि  मनोज और सत्यनारायण स्नातक थे और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे थे, जबकि ऋतुराज बीए प्रथम वर्ष का छात्र था. घायल युवक को जयपुर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनीष तिवारी ने गुरुवार को जयपुर में संवाददाताओं से बातचीत के क्रम में आरोप लगाया कि देश का ऐसा हाल भाजपा व राजग की सरकार ने बनाया है. उन्होंने पाच साल में 10 करोड़ युवाओं को नौकरी देने के भाजपा के चुनावी वादे पर तंज कसा. कहा कि वास्तव में रोजगार के सवा आठ लाख अवसर भी मुश्किल से पैदा हुए हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: