National

राजस्थानः अशोक गहलोत के भाई के घर छापेमारी, फर्टिलाइजर स्कैम में ईडी की कार्रवाई

विज्ञापन

Jaipur: राजस्थान की सियासत में एक ओर अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच आरपार की लड़ाई जारी है. वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री गहलोत के करीबियों पर शिकंजा और कसता जा रहा है. बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय की टीम फर्टिलाइजर घोटाले को लेकर कई जगह छापेमारी कर रही है. इस कड़ी में राजस्थान सीएम गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत के यहां भी छापेमारी हुई है.

बता दें कि बीते दिनों ही सीएम अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत का नाम फर्टिलाइजर स्कैम में आया था. आरोप है कि अग्रसेन गहलोत ने 2007 से 2009 के बीच किसानों के लिए ली गई उर्वरक को प्राइवेट कंपनियों को दिया गया. इस दौरान केंद्र में मनमोहन सिंह की सरकार थी और राज्य में अशोक गहलोत मुख्यमंत्री थे.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: रिम्स से फरार हुआ कोरोना पॉजिटिव युवक, तलाश में जुटा प्रबंधन

advt

क्या है मामला

बता दें कि म्यूरिएट ऑफ पोटाश (एमओपी) के निर्यात पर बैन है. एमओपी को भारतीय पोटाश लिमिटेड (आइपीएल) द्वारा आयात किया जाता है और किसानों को रियायती दरों पर दिया जाता है. आरोप है कि 2007-2009 के बीच अग्रसेन गहलोत, (जो आइपीएल के लिए अधिकृत डीलर थे) ने रियायती दरों पर म्यूरिएट ऑफ पोटाश खरीदा और किसानों को वितरित करने की जगह उन्होंने इसे कुछ कंपनियों को बेच दिया. 2012-13 में राजस्व खुफिया निदेशालय ने इसका खुलासा किया था.

गहलोत की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

हालांकि, अग्रसेन गहलोत ने उस वक्त इन आरोपों से इनकार किया था. लेकिन अब इस मामले की ईडी ने फिर से जांच शुरू कर दी है. ऐसे में राजस्थान के सियासी उठापटक के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. चंद दिनों पहले ही आयकर और ईडी ने गहलोत के करीबियों पर छापेमारी की थी.

इसे भी पढ़ेंःUP में योगी ऑफिस के सामने खुद को आग लगाने वाली मां-बेटी में से मां ने दम तोड़ा

adv
advt
Advertisement

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button