Bihar

रेलवे बिहार में पार्सल और पैक्ड सामानों की जांच के लिए लगायेगा लगेज स्कैनर

Patna : रेलवे में बुक होनेवाले पार्सल की जांच और पैक्ड सामान के बारे में आसानी से पता लगाने के लिए अब स्टेशनों पर लगेज स्कैनर मशीन लगायी जायेंगी. इसके अलावा रेल पुलिस की डिमांड पर इंफ्रा रेड मशीन और सीसीटीवी भी उपलब्ध कराने की कवायद चल रही है. रेलवे, आरपीएफ और बिहार रेल पुलिस की टीम ने हाल ही में एक हाई लेवल मीटिंग की थी, जिसके बाद कई बड़े फैसले लिये गये हैं. बड़े स्टेशनों पर पार्सल ऑफिस के एरिया को इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से लैस करने की तैयारी है.

फिलहाल दानापुर रेल डिविजन में पटना जंक्शन, राजेंद्र नगर, दानापुर, पाटलिपुत्र, किउल और झाझा स्टेशन पर ही पार्सल की बुकिंग हो रही है. इसलिए इन्हीं स्टेशनों पर यह सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी.

इसे भी पढ़ें :400 प्लस टू स्कूलों में कॉमर्स, बायोलॉजी और संस्कृत के शिक्षक बहाल हो गये, स्टूडेंट की संख्या जीरो

दरअसल, 17 जून को दरभंगा रेलवे स्टेशन पर सिकन्दराबाद से आयी स्पेशल ट्रेन के लगेज कोच से कपड़े के एक पार्सल को उतारा गया था, जिसके अंदर ब्लास्ट हुआ था.

बिहार की रेल पुलिस, एटीएस तेलंगाना पुलिस, यूपी की एसटीएफ की जांच में यह एक आतंकी वारदात निकली थी. इसके बाद मामले की जांच एनआइए के हाथ चली गयी. इसके बाद कई तरह के खुलासे भी हुए.

गौरतलब है कि दरभंगा पार्सल ब्लास्ट के बाद से पटना जंक्शन समेत पार्सल की बुकिंग होनेवाले सभी बड़े स्टेशनों पर पार्सल की रैंडमली चेकिंग होती है. आरपीएफ और रेल पुलिस की टीम हैंड मेटल डिटेक्टर के जरिए हर एक संदिग्ध पार्सल को खंगालती है.

इसे भी पढ़ें :बिहारः BJP प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल स्टीवन जॉनसन सिंड्रोम के कारण पटना एम्स में भर्ती

सामान को रैंडम चेक करने का रेलवे की तरफ से भी दिशा-निर्देश जारी किया गया था. पटना जंक्शन के पार्सल ऑफिस के अधिकारी बताते हैं कि पार्सल की बुकिंग को लेकर पूरी तरह से सावधानी बरती जा रही है. एंट्री और एग्जिट प्वाइंट पर सीसीटीवी लगे हैं, जिससे ऑफिस में आने-जाने वालों और उनकी गतिविधियां कैद हो रही है.

सिक्योरिटी की वजह से ही रेलवे ने छोटे स्टेशनों पर पार्सल बुकिंग की सुविधा पहले से ही बंद कर रखी है. बात अगर दानापुर रेल डिविजन की करें तो पटना जंक्शन, राजेंद्र नगर, दानापुर, पाटलिपुत्र, किउल और झाझा स्टेशन पर ही पार्सल की बुकिंग हो रही है.

इसे भी पढ़ें :लौहनगरी में हर महीने औसतन 23 लोग कर लेते हैं खुदकुशी, तंगी और घरेलू कलह सबसे बड़ा कारण

Related Articles

Back to top button