न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राफेल पर पर्रिकर को राहुल का जवाबी पत्र, मोदी के दबाव में आपने मुझे बनाया निशाना

सीएम पर्रिकर ने बुधवार को राहुल गांधी पर आरोप लगाया था कि उन्होंने शिष्टाचार भेंट का इस्तेमाल तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिए किया और उन दोनों के बीच पांच मिनट की मुलाकात में राफेल मुद्दे का कोई जिक्र नहीं हुआ था

64

NewDelhi : राहुल गांधी द्वारा पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से शिष्टाचार मुलाकात का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे के लिए करने संबंधी खबरों ने देश में राजनीतिक हलचल पैदा कर दी है. इसे लेकर कांग्रेस-भाजपा में तलवारें खिंच गयी है. मनोहर पर्रिकर के आरोपों को राहुल ने खारिज कर दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने  कहा कि पर्रिकर ने दबाव में आकर प्रधानमंत्री  मोदी से वफादारी दिखाने के लिए उन्हें निशाना बनाया है. पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को राहुल ने जवाबी पत्र लिखा है. उसमें कहा है कि उन्होंने उनके साथ हुई कोई निजी बातचीत साझा नहीं की है बल्कि राफेल मामले से जुड़ीं वही बातें की हैं जो पहले से सार्वजनिक पटल पर हैं. राहुल गांधी ने कहा कि मनोहर पर्रिकर जी, मैं यह सुनकर आहत हूं कि अपने मुझे कोई पत्र लिखा और इसे मुझे पढ़ने का मौका मिलने से पहले ही मीडिया में लीक कर दिया. उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ कहना चाहता हूँ कि मेरा आपके यहां दौरा पूरी तरह निजी था. निःसन्देह आपको यह याद होगा कि जब अमेरिका में आपका उपचार चल रहा था तब भी मैंने आपकी सेहत के बारे में जानने के लिए संपर्क किया था.

प्रधानमंत्री की बेईमानी को लेकर उन पर हमला करने का मेरा अधिकार

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि बहरहाल, मैं एक जनप्रतिनिधि हूँ. राफेल सौदे में  प्रधानमंत्री की बेईमानी को लेकर उन पर हमला करने का मेरा अधिकार है. मैंने वही बातें कहीं हैं जो पहले से ही सावर्जनिक पटल पर हैं. मैंने हमारी मुलाकात के दौरान हुई बातचीत से जुड़ी कोई जानकारी साझा नहीं की है. गांधी ने कहा कि मुझे आपकी स्थिति से हमदर्दी है, मैं समझता हूं कि कल की हमारी मुलाकात के बाद आप पर कितना दबाव है. दबाव की वजह से आपको प्रधानमंत्री और उनके साथियों के प्रति वफादारी दिखाने के लिए अव्यवहारिक ढंग से मुझपर निशाना साधने का असामान्य कदम उठाना पड़ा. साथ ही राहुल गांधी ने पर्रिकर के जल्द सेहतमंद होने की कामना की.

शिष्टाचार भेंट का इस्तेमाल तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिए किया

बता दें कि बीमार चले रहे गोवा के सीएम पर्रिकर ने बुधवार को राहुल गांधी पर आरोप लगाया था कि उन्होंने शिष्टाचार भेंट का इस्तेमाल तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिए किया और उन दोनों के बीच पांच मिनट की मुलाकात में राफेल मुद्दे का कोई जिक्र नहीं हुआ था. कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में  पर्रिकर ने कहा था कि 29 जनवरी को बिना किसी पूर्व सूचना के आप मेरे स्वास्थ्य का हाल पूछने मेरे यहां आये थे. दलगत भावना से ऊपर उठकर एक अस्वस्थ व्यक्ति का हाल जानना अच्छी परंपरा है.आपके आने पर मैने आपका स्वागत आपकी अच्छी भावना के संदर्भ में किया. लेकिन आज सुबह समाचार पत्रों में जिस ढंग से आपके विजिट को लेकर बयान प्रकाशित हुए हैं, उन्हें पढ़कर मुझे आश्चर्य भी हुआ और आहत भी हूं. आपने कहा कि बातचीत में मैने आपको बताया है कि राफेल की प्रक्रिया में मैं कहीं नहीं था मुझे कोई जानकारी नहीं थी. मेरे लिए यह अत्यंत निराशाजनक और आहत करने वाली बात है कि मेरे स्वास्थ्य का हाल जानने के बहाने आपने अपने निम्न स्तरीय राजनीतिक हितों को साधने का कार्य किया है.

Related Posts

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा,  स्वतंत्रता उन लोगों पर जहर उगलने का माध्यम बन गयी  है, जो अलग तरह से सोचते हैं

चंद्रचूड़ के अनुसार खतरा तब पैदा होता है जब आजादी को दबाया जाता है, चाहे वह राज्य के द्वारा हो, लोगों के द्वारा हो या खुद कला के द्वारा हो.

SMILE

उसकी मैं कल्पना भी नहीं कर पा रहा हूं. मनोहर पर्रिकर ने राहुल गांधी से कहा कि आपसे पांच मिनट की भेंट में न राफेल का जिक्र हुआ था और न ही मैने राफेल संबंधी कोई चर्चा की थी. उन 15 मिनट में इस संबंध में कोई चर्चा नहीं हुई.

इसे भी पढ़ें : आज से बजट सत्र, कल गोयल अंतरिम बजट पेश करेंगे, विपक्ष हमलावर मूड में, तरकश में हैं कई तीर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: