Main SliderNational

राहुल का आरोप-मोदी का एक और झूठ उजागर हुआ, रक्षा मंत्रालय ने माना- चीन ने किया घुसपैठ, फिर बेवसाइट से हटायी जानकारी

New Delhi : कांग्रेस के महासचिव राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर देश से झूठ बोलने का आरोप लगाया है. कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक और झूठ उजागर हो गया है. चीन सीमा विवाद को लेकर राजनीतिक दलों के साथ हुई बैठक में प्रधानममंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि “ना कोई घुसा था और ना ही कोई घुसा.” इस बीच रक्षा मंत्रालय ने अपनी बेवसाइट पर जो जानकारी साझा की, उसमें मई में चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ की बात को स्वीकार किया गया. इसे लेकर विपक्ष की तरफ से सवाल उठाये जाने लगे. तब रक्षा मंत्रालय ने अपनी बेवसाइट से उस जानकारी को हटा लिया.

ऐसे में विपक्ष एक बार फिर से हमलावर हो गया है. राहुल गांधी ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री को देश से “झूठ बोलने” का आरोप लगाया है. हालांकि मेन स्ट्रीम मीडिया के समाचार चैनलों ने इस खबर को या तो नहीं दिखाया है या फिर हल्के में दिखाने का काम किया है.

इसे भी पढ़ें – क्या आपको सच पता है ! लोगों के पास पैसे नहीं है, फिर शेयर बाजार कैसे चढ़ रहा है?

अपलोड दस्तावेज में स्वीकार की थी अतिक्रमण की बात

रक्षा मंत्रालय ने वेबसाइट पर जो दस्तावेज अपलोड किये थे, उसमें चीनी सैनिकों द्वारा अतिक्रमण करने की बात को स्वीकार किया गया है. लिखा गया है कि 17-18 मई को चीनी सैनिकों ने हॉट स्प्रिंग के उत्तर में पेट्रोलिंग प्वाइंट 15 के पास स्थित कुगरांग नाला, पेट्रोलिंग प्वाइंट 17ए के निकट गोगरा और पैंगोंग सो के उत्तरी किनारे पर अतिक्रमण किया था.

इसे भी पढ़ें – मात्र 8.3% ट्राइबल परिवार के घरों में पानी की सुविधा, अगले चार सालों में हर घर पानी देने का लक्ष्य

लंबे समय तक गतिरोध की संभावना

चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद में भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय ने पहली बार यह स्वीकार किया है कि चीन भारतीय क्षेत्र में अतिक्रमण किया है. हालांकि उसने घुसपैठ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है. रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि चीन के साथ इस मुद्दे पर लंबे समय तक गतिरोध चलने की संभावना है.

मंत्रालय ने कहा है कि चीन की की मांग है भारत पैंगोंग झील से पीछे हट जाये. जिसके कारण डिसएंगेजमेंट को लेकर चल रही वार्ता में गतिरोध पैदा हो गया है. भारतीय रक्षा मंत्रालय ने पहली बार चीनी घुसपैठ को अतिक्रमण (transgression) के रूप में स्वीकारते हुए आधिकारिक रूप से जानकारी अपनी वेबसाइट पर डाली थी.

हालांकि राजनीतिक स्तर पर विवाद बढ़ने के बाद गुरुवार को वेबसाइट से इस रिपोर्ट को अब हटा लिया गया है.

इसे भी पढ़ें – RBI की नीतिगत ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं, जीडीपी वृद्धि नकारात्मक रहने का अनुमान

12 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button