न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 राहुल लगातार पीएम मोदी पर हो रहे हमलावर, कहा, मोदी हिंदुस्तान के नहीं, अंबानी के प्रधानमंत्री हैं

उऩ्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भ्रष्ट बताया.  कहा कि मोदी ने देश की जनता की नहीं, बल्कि अनिल अंबानी की चौकीदारी की है.

104

NewDelhi : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान के नहीं, अंबानी के प्रधानमंत्री हैं. बता दें कि राहुल गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे. इस क्रम में उऩ्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भ्रष्ट बताया.  कहा कि मोदी ने देश की जनता की नहीं, बल्कि अनिल अंबानी की चौकीदारी की है.  राहुल गांधी ने कहा, फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने खुलासा किया कि भारत के पीएम ने उनसे कहा था कि रिलायंस को रफाल डील मिलनी चाहिए. अब एक वरिष्ठ अधिकारी भी रफाल डील को लेकर वही बात कह रहे हैं. राहुल ने कहा कि इससे साफ है कि यह भ्रष्टाचार का मामला है. पूछा कि अचानक देश की रक्षा मंत्री फ्रांस क्यों गयीं. ऐसी क्या इमरजेंसी है? वह इतनी जल्दी में क्यों हैं और उन्हें डसॉल्ट एविएशन फैक्ट्री में क्यों जाना पड़ा? मैं यह साफ तौर पर देश के युवाओं से यह कहना चाहता हूं कि देश का प्रधानमंत्री एक भ्रष्ट आदमी है.

इसे भी पढ़ेंः द क्विंट के मालिक के आवास और कार्यालय पर आयकर का छापा,  राघव बहल एडिटर्स गिल्ड में ले जायेंगे मामला 

हिंदुस्तान की जनता और एयरफोर्स का पैसा, अनिल अंबानी की जेब में डाल दिया

silk_park

राहुल गांधी ने बताया  कि अनिल अंबानी 45 हजार करोड़ रुपये के कर्ज में हैं.  अनिल ने 10 दिन पहले कंपनी खोली और प्रधानमंत्री जी ने 30 हजार करोड़ रुपया, जो कि हिंदुस्तान की जनता और एयरफोर्स का पैसा है, अनिल अंबानी की जेब में डाल दिया.  इस क्रम में राहुल गांधी ने  कहा, नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान के नहीं, अंबानी के प्रधानमंत्री हैं. आज युवा रोजगार खोज रहे हैं और पीएम अनिल अंबानी की चौकीदारी कर रहे हैं. राहुल ने कहा देश में मुख्य मुद्दा भ्रष्टाचार का है, लेकिन प्रधानमंत्री जी इस पर कुछ नहीं बोल रहे हैं.  आरोप लगाया कि रफाल डील में प्रधानमंत्री ने सीधे-सीधे भ्रष्टाचार किया है.  उनकी भी जांच होनी चाहिए.  रफाल सौदे की जेपीसी से जांच होनी चाहिए.  अगर हमारे प्रधानमंत्री जवाब नहीं दे पा रहे हैं तो उन्हें तत्काल इस्तीफा देना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः राफेल डील पर फ्रांस मीडिया का दावा,  दसॉ एविएशन के पास रिलायंस के अलावा कोई दूसरा विकल्प था ही नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: