न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राहुल गांधी का राफेल मामले में नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला, कहा- मुझसे सिर्फ 20 मिनट बहस करें पीएम

734

New Delhi: लोकसभा में बहस के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल डील पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार से पांच बड़े सवाल पूछे हैं और कहा कि प्रधानमंत्री इन सवालों का जवाब जिम्मेदारी के साथ दें. राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बहस की चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के अंदर हिम्मत है तो मुझसे राफेल पर 20 मिनट बहस कर लें. राहुल ने कहा कि यहां तक कि पीएम मोदी प्रेस के सामने भी नहीं बैठ सकते.

नववर्ष की बधाई देते हुए अपनी बात रखी. उन्होंने लोकसभा के बाद एक बार फिर उस ऑडियो टेप का जिक्र किया, जिसमें दावा किया गया है कि गोवा के एक मंत्री कह रहे हैं कि राफेल से जुड़ी फाइल मनोहर पर्रिकर जी के पास हैं.

राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी से पूछे सवाल

  • किसने वायुसेना की 126 रफ़ाल की ज़रूरतों को 36 में तब्दील किया. इस सौदे में बदलाव किसने किया और क्यों किया? पुरानी डील को इस सरकार ने क्यों बदला?
  • हर कोई जानता है कि यूपीए सरकार 526 करोड़ में 126 रफ़ाल ख़रीदने जा रही थी. अब मोदी सरकार 1600 करोड़ में 36 रफ़ाल ख़रीदने जा रही है. आख़िर ये क़ीमत क्यों बदली गई?
  • फ़्रांस ने ख़ुद कहा है कि एचएएल से विमान बनाने का काम छीनकर अनिल अंबानी को देने का फ़ैसला भारत सरकार का था. आख़िर एचएएल से यह काम क्यों छीना गया? एचएएल ने कई लड़ाकू विमान बनाए हैं लेकिन उसे ये काम नहीं दिया गया.
  • 10 दिन पहले कंपनी बनाने वाले अनिल अंबानी, जो कि 45 हज़ार करोड़ के क़र्ज़ में हैं, उनकी कंपनी को रफ़ाल का कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया गया?
  • रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि क़ीमत गोपनीय है जबकि फ़्रांस के राष्ट्रपति ने मनमोहन सिंह से कहा कि इसकी क़ीमत बताने में कोई दिक़्क़त नहीं है और इसमें गोपनीयता जैसी कोई बात नहीं है.
  • पुराने कॉन्ट्रैक्ट में भारत सरकार की कंपनी एचएएल को विमान बनाना था. कई राज्यों में इसके काम होते और लोगों को रोज़गार मिलते.

राहुल गांधी ने बताया कि सवाल ये है कि पर्रिकर जी के बेडरूम में क्या जानकारी और फाइल हैं और उसका असर नरेंद्र मोदी जी पर क्या है. इससे आगे उन्होंने कहा कि लोकसभा में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पूछा कि 1600 करोड़ का आंकड़ा कांग्रेस पार्टी कहां से लाई है? इसके जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि जेटली जी ने आपने अपने भाषण में हमें जानकारी दी है. राहुल ने बताया कि जेटली जी ने अपने भाषण में 5800 करोड़ की डील की बात कही और इसे आप 36 से भाग करेंगे तो 1600 आता है. यानी 1600 करोड़ का आंकड़ा जेटली जी के भाषण से कांग्रेस पार्टी के पास आया है.

पीएम के इंटरव्यू पर टिप्पणी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी के इंटरव्यू पर टिप्पणी करते हुए कहा कि पीएम मोदी कह रहे थे कि मुझ पर व्यक्तिगत आरोप नहीं है. राहुल ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी जी आप किस दुनिया में हैं, ये सवाल आपसे ही पूछे जा रहे हैं.’ राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि विमान का सौदा नरेंद्र मोदी जी ने बदला है और उन्होंने देश का पैसा चुराया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सौदे की प्रक्रिया बदली है और एयरफोर्स ने इसका विरोध किया था.

Related Posts

यूपीः युवक को पेड़ से बांध कर जिंदा जलाया, दो आरोपी गिरफ्तार

गुस्सायी भीड़ ने पुलिस की गाड़ियों में लगायी आग, भागकर पुलिसकर्मियों ने बचाई अपनी जान

hotlips top

पर्रिकर के टेप का जिक्र

राहुल गांधी ने एक बार मनोहर पर्रिकर और टेप का जिक्र किया. उन्होंने आरोप लगाया कि सवाल ये है कि पर्रिकर जी के बेडरूम में क्या जानकारी और फाइल हैं और उसका असर नरेंद्र मोदी जी पर क्या है. उन्होंने आरोप लगाया कि मनोहर पर्रिकर राफेल के मसले पर पीएम नरेंद्र मोदी को ब्लैकमेल कर रहे हैं.

‘पीएम से हर बिंदु पर बहस को तैयार, उनमें साहस नहीं’

राहुल ने कहा,’मैं पीएम मोदी से राफेल डील के हर बिंदु पर बात करना चाहता हूं. मुझे वे सिर्फ 20 मिनट दें. लेकिन उनमें सामने बैठने का साहस ही नहीं है. मैं हर 7 से 10 दिन में आता हूं, लेकिन उनमें बैठने का साहस नहीं है. आपने कल पीएम मोदी का इंटरव्यू में देखा कि पत्रकार पीएम मोदी से सवाल भी कर रही थीं और जवाब भी दे रही थीं.’

राहुल बोले, सुप्रीम कोर्ट ने क्लीन चिट नहीं दी

सुप्रीम कोर्ट से क्लीन चिट को लेकर राहुल ने कहा कि अदालत ने कहा कि यह हमारे न्यायिक क्षेत्र का मसला नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने यह नहीं कहा है कि जेपीसी नहीं होनी चाहिए. सुप्रीम कोर्ट के फैसले में लिखा था कि सीएजी रिपोर्ट आ चुकी है, खड़गे जी ने बताया कि रिपोर्ट नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने यह नहीं कहा है कि इस डील में करप्शन नहीं है. उसने क्लीन चिट नहीं दी है बल्कि यह कहा है कि यह हमारे न्यायिक क्षेत्र का मसला नहीं है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like