ELECTION SPECIALLead NewsNationalTOP SLIDER

पंजाब में राहुल गांधी पर हमला, युवकों ने झंडा चेहरे पर दे मारा, देखते रह गए CM Channi और सिद्धू

Ludhiana :  लुधियाना में चुनावी रैली में जाते हुए राहुल गांधी के साथ सुरक्षा में बड़ी चूक का मामला सामने आया है. एक युवक ने उनके चेहरे पर झंडा मार दिया. इससे गांधी बच तो गए, लेकिन अब सवाल यह उठ रहा है कि क्यों, पंजाब में वीवीआईपी सुरक्षा में पुलिस दूसरी बार नाकाम रही है.

इसे भी पढ़ें :सख्ती : ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन मामले में रांची में 9000 से अधिक लाइसेंस सस्पेंड

कार में बाल बाल बच गए राहुल गांधी

Catalyst IAS
ram janam hospital

दरअसल, हलवारा हवाई अड्डे से लुधियाना के हयात होटल राहुल गांधी पहुंचे थे.  वे गाड़ी का शीशा खोल कर लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे. तभी एक युवक ने उनकी खिड़की पर झंडा फेंका, झंड उनके चेहरे पर लगा. लेकिन राहुल बाल-बाल बच गए. इसके तुरंत बाद उन्होंने शीशा बंद कर लिया.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें :MUNGER: दूसरी महिला के चक्कर में पत्नी की गला दबाकर हत्या

सीएम चन्नी और सिद्धू के सामने राहुल को मारा झंडा

बता दें कि जब यह घटना हुई, उस वक्त पार्टी के वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ गाड़ी चला रहे थे, जबकि उनके पीछे मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और विधायक नवजोत सिद्धू बैठे थे. इतनी बड़ी घटना के बाद सुरक्षाकर्मियों के हाथ पांव फूल गए.

पता चला है कि झंडा फहराने वाला युवक नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) का कार्यकर्ता था और उसने गुस्से में आकर राहुल पर झंडा फहरा दिया.

इसे भी पढ़ें :पंजाब में वोटिंग से 13 दिन पहले डेरा सच्चा सौदा के चीफ गुरमीत राम रहीम को 21 दिन की पैरोल, 69 सीटों पर है असर

पंजाब में वीवीआईपी सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक कैसे?

पंजाब में यह दूसरा मौका है, जब वीवीआईपी सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई है. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को प्रदर्शनकारी किसानों ने रोक लिया था. इस पर पंजाब में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई तरह के सवाल उठे थे. इसके बाद भी सुरक्षा को लेकर ठोस इंतजाम नहीं हो रहे हैं.

इससे पहले राहुल की रैली से कुछ दूरी पर ही 1984 के सिख दंगा पीड़ितों ने काले झंडे से विरोध प्रदर्शन किया था. दंगा पीड़ित पुरुष और महिलाएं एकजुट हुए और नारे लगाने लगे. पुलिसकर्मी को जब धरने की जानकारी मिली तो आनन फानन में उन पर काबू पाया गया. प्रदर्शनकारियों को राहुल गांधी की रैली दूर लेकर जाया गया. जिससे किसी तरह की अप्रिय घटना होने से बच गई.

इसे भी पढ़ें :अरवल में सड़क हादसे में लोजपा नेता की मौत

इस वजह से राहुल गांधी पर प्रदर्शनकारियों ने किया हमला

प्रदर्शनकारियों की कोशिश थी कि राहुल की रैली के नजदीक पहुंचा जाए. उन्होंने पूरी कोशिश की, मामला हाथ से निकलता देख कर भारी पुलिस बल तैनाl किया किया. इस वजह से प्रदर्शनकारी रैली स्थल तक पहुंचने में कामयाब नहीं हुए. प्रदर्शनकारी जसविंदर सिंह और मनप्रीत कौर ने कहा कि कांग्रेस ने सिखों का संहार किया है. इसमें विशेष तौर पर राजीव गांधी और अजय माकन के पिता ललित माकन इसके लिए जिम्मेदार है. हम उनका विरोध करने के लिए यहां एकजुट हुए हैं.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : मंच पर अखिलेश यादव के सामने सपा महासचिव ने जिलाध्यक्ष को दिखाया थप्पड़, देखें VIDEO

Related Articles

Back to top button