न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मानहानि केस में सूरत की कोर्ट में पेश हुए राहुल, कहा- मुझे चुप कराने के लिए बेताब हैं विरोधी

राहुल गांधी की कथित टिप्पणी ‘सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है’ से जुड़ा है केस

619

Surat: कांग्रेस नेता राहुल गांधी मानहानि के एक मामले में सूरत की अदालत में पेश हुए. गुरुवार को यहां मजिस्ट्रेट अदालत में राहुल गांधी पेश हुए और उन्होंने कहा कि आपराधिक मानहानि के इस मामले में वह दोषी नहीं हैं.

गौरतलब है कि राहुल की कथित टिप्पणी ‘सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है’ से जुड़ा ये मानहानि का केस है. सूरत-वेस्ट से भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी ने गांधी के खिलाफ यह मामला दर्ज करवाया था.

इस मामले में गांधी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बी एच कपाड़िया की अदालत में पेश हुए. अदालत ने उनसे पूछा कि क्या वह इन आरोपों को स्वीकार करते हैं तो उन्होंने कहा कि वह निर्दोष हैं.

इसे भी पढ़ेंःसरकारी दावा झारखंड #ODF: गुमला ने पूरा किया 90% टारगेट लेकिन निर्माण के नाम पर एक करोड़ का घोटाला

गांधी की दलील दर्ज किए जाने के बाद उनके वकीलों ने अगली सुनवाई में उनके निजी तौर पर उपस्थित रहने से स्थायी छूट मांगने वाला एक आवेदन दिया.

Mayfair 2-1-2020

याचिकाकर्ता के वकीलों ने छूट देने का विरोध किया तो अदालत ने कहा कि इस आवेदन पर वह 10 दिसंबर को फैसला करेगी.

मुझे चुप कराने को बेताब विरोधी- गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि उनके खिलाफ दायर कराए गए मानहानि के मामले, उन्हें चुप कराने के लिए बेताब उनके राजनीतिक विरोधियों का एक प्रयास है. मजिस्ट्रेट अदालत में पेश हुए गांधी ने ट्वीट कर यह आरोप लगाया.

Sport House

इसे भी पढ़ेंःसरायकेला सीट: #JMM के चंपई की स्थिति मजबूत, क्या #BJP गणेश महली पर फिर लायेगी दांव 

Related Posts

#Budget_Session 31 जनवरी से, अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर घिरी सरकार के लिए बजट सत्र आसान नहीं होने वाला

केंद्र सरकार को विपक्ष के हमलों का सामना करना होगा. खबर है कि लोकसभा और राज्यसभा में विपक्ष की ओर से कई मसलों पर सवालों की लंबी लिस्ट तैयार की गयी है

गांधी ने ट्वीट किया, “मेरा मुंह बंद कराने के लिए व्याकुल, मेरे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा दर्ज मानहानि के एक मामले में पेश होने के लिए मैं आज सूरत में हूं. मेरे साथ एकजुटता दिखाने के लिए यहां जमा हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्यार एवं सहयोग के लिए मैं उनका आभारी हूं.”

क्या है पूरा मामला

दरअसल, कर्नाटक में 13 अप्रैल 2019 को कोलार में अपनी एक प्रचार रैली के दौरान राहुल गांधी ने कहा था ‘‘नीरव मोदी, ललित मोदी, नरेंद्र मोदी…. आखिर इन सभी का उपनाम मोदी क्यों है? सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है?’’

शिकायत में पूर्णेश मोदी ने कहा था कि कांग्रेस नेता ने अपनी इस टिप्पणी से पूरे मोदी समुदाय की मानहानि की है.

वहीं गुरुवार को सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि अगली सुनवाई में गांधी को उपस्थित होने की कोई आवश्यकता नहीं है.

बता दें कि जुलाई में हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने राहुल को सुनवाई में निजी तौर पर पेश होने से छूट दी थी और अगली सुनवाई की तारीख 10 अक्टूबर नियत की थी.

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बी एच कपाड़िया ने मई में राहुल गांधी के खिलाफ समन जारी किए थे. यह समन स्थानीय भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी की ओर से राहुल के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 499 और 500 के तहत आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद जारी किए गए थे.

उल्लेखनीय है कि वयनाड से सांसद राहुल को आरएसएस/भाजपा कार्यकर्ताओं की तरफ से उनके खिलाफ दायर इसी तरह के एक अन्य मामले में शुक्रवार को अहमदाबाद में चल रही अदालती सुनवाई में भी शामिल होना है.

इसे भी पढ़ेंःतेजस के बाद अब 150 ट्रेन और 50 स्टेशन को निजी हाथों में देने की तैयारी में रेल मंत्रालय

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like