National

राहुल ने फिर किया पीएम मोदी को टारगेट, गरीब भूखा है, सरकार अपने कुछ खास मित्रों की जेबें भर रही है    

वैश्विक भूख सूचकांक 2020 के 117 देशों में भारत  94 वें नंबर पर है. जबकि इंडोनेशिया, पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश  भारत  की तुलना में कहीं बेहतर पायदान पर हैं

विज्ञापन

 NewDelhi :  भारत का  गरीब भूखा है क्योंकि सरकार सिर्फ अपने कुछ खास ‘मित्रों’ की जेबें भरने में लगी है.  यह आरोप कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर लगाया है. राहुल गांधी लगातार पीएम मोदी पर हमला कर रहे हैं.

इसी क्रम में शनिवार को राहुल ने वैश्विक भूख सूचकांक’ 2020 को लेकर पीएम को टारगेट किया.  कहा कि भारत का  गरीब भूखा है क्योंकि सरकार सिर्फ अपने कुछ खास ‘मित्रों’ की जेबें भरने में लगी है.

इसे भी पढ़ें : पीएम मोदी ने देशवासियों को शारदीय नवरात्र की शुभकामनाएं दी, पूरे 9 दिन रहेंगे उपवास पर

इंडोनेशिया, पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश  बेहतर पायदान पर

जान लें कि शुक्रवार को जारी वैश्विक भूख सूचकांक 2020 के 117 देशों में भारत  94 वें नंबर पर है. जबकि इंडोनेशिया, पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश  भारत  की तुलना में कहीं बेहतर पायदान पर हैं,  राहुल गांधी ने इस संबंध में प्रकाशित एक ग्राफ अपने ट्विटर पर साझा करते हुए केंद्र सरकार पर हमला किया.

adv

सूचकांक के अनुसार इंडोनेशिया 70, नेपाल 73, बांग्लादेश 75 और पाकिस्तान 88वें पायदान पर है.  इससे पहले राहुल   शुक्रवार को कोरोना से अर्थव्यवस्था को लगे झटकों को लेकर मोदी सरकारपर हमला बोला था.

इसे भी पढ़ें : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा, कॉमन सिविल कोड न्यायसंगत नहीं, आम राय तैयार करेंगे

जीडीपी के आधार पर बांग्लादेश जल्द ही भारत को पछाड़ देगा

उन्होंने ग्राफिक्स साझा करते हुए मोदी सरकार पर तंज कसा था कि भाजपा सरकार की एक और ठोस उपलब्धि, पाकिस्तान और अफगानिस्तान ने भी भारत से बेहतर ढंग से कोविड का प्रबंध किया है.

बता दें कि राहुल गांधी ने दो दिन पहले ट्वीट कर कहा था कि प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी )के आधार पर बांग्लादेश जल्द ही भारत को पछाड़ देगा.  इसमें उन्होंने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के आंकड़ों का हवाला दिया था. हालांकि सरकारी सूत्रों ने इस पर जवाब देते हुए राहुल के दावों को गलत करार दिया था.

इसे भी पढ़ें : Corona को लेकर राहत वाली खबर, देश में डेढ़ महीने बाद एक्टिव मरीजों की संख्या आठ लाख से नीचे

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button