न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्किल डेवलपमेंट के नाम पर बेरोजगारों को ठग रही है रघुवर सरकार : एम तौसीफ

65

Ranchi: झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता डॉ एम. तौसीफ ने नरेंद्र मोदी और रघुवर सरकार पर बेरोजगार युवकों को रोजगार के नाम पर ठगने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि विगत चार वर्षों में रघुवर सरकार ने स्किल डेवलपमेंट के नाम पर करोड़ों रुपये पानी की तरह बहाया है. जबकि हकीकत यह है कि कौशल विकास योजना से राज्य के बेरोजगार युवक अब तक न स्किल्ड हुए है, न ही उन्हें रोजगार नसीब हुआ है. उन्होंने कहा कि भाजपा जाहे जितना प्रयास कर ले, लेकिन देश और राज्य की जनता अब उसकी जुमलाबाजी में नहीं आनेवाली. कोलेबिरा उपचुनाव के परिणाम ने यह बता दिया कि भाजपा की गलत नीतियों से जनता में कितना आक्रोश है.

mi banner add

करोड़ों रुपये खर्च कर फिर हो रहा आयोजन

डॉ एम तौसीफ ने कहा कि एक बार फिर राज्य की रघुवर सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर रोजगार के नाम पर कार्यक्रम आयोजित करने जा रही है. कार्यक्रम में कई विदेशी डेलिगेशन भी हिस्सा लेंगे. इसी रघुवर सरकार ने रोजगार के नाम पर पूर्व में भी स्किल्ड डेवलपमेंट के नाम पर 25,000 युवकों को ठगने का काम किया है. पूर्व के रोजगार कार्यक्रम में सरकार ने पुणे,  मुम्बई, दिल्ली,  बंगलूरू जैसे महानगर में काम करने के लिए एमबीए, इंजीनियरिंग किये युवकों को नियुक्ति पत्र तो दे दिया. लेकिन 8 से 10 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन के कारण युवकों ने नौकरियां ज्वाइन नहीं की.

पारा शिक्षकों पर भी सरकार नहीं दिखती है गंभीर

Related Posts

बकरी बाजार मैदान में कॉम्प्लेक्स बनाने के निर्णय को रद्द करने की मांग, AAP ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

पार्टी ने मांग की कि उस मैदान को बच्चों के खेल के मैदान-पार्क के रूप में विकसित किया जाये

डॉ तौसीफ ने कहा कि सरकार दावा करती है कि उसने एक लाख तक रोजगार दिया. लेकिन वहीं सरकार पारा शिक्षकों की मांगों को पूरा करने के बजाय इनसे नौकरी छीनने का काम कर रही है. राज्य के 67,000 पारा शिक्षक पिछले 54 दिनों से अपनी मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं. आंदोलन के दौरान राज्य के 15 पारा शिक्षकों की मौत हो चुकी है. लेकिन सरकार उन मृत पारा शिक्षकों के परिजनों को न तो उचित मुआवजा दिया है, न ही उनके परिवार के सदस्यों को नौकरी.

इसे भी पढ़ें – ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के दूसरे दिन 138 मजदूर और 300 किसान हुए गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: