Ranchi

घोटालों में दिन-प्रतिदिन नया कीर्तिमान रच रही है रघुवर सरकार : अजय नाथ शाहदेव

विज्ञापन
  • हाई कोर्ट भवन निर्माण में भारी अनियमितता होने का कांग्रेसी नेता ने लगाया आरोप

Ranchi : एचईसी परिसर में झारखंड हाई कोर्ट के नये भवन निर्माण में एक बड़े घोटाले की बात कांग्रेस पार्टी ने की है. भवन निर्माण कार्य कर रही कंपनी रामकृपाल कंस्ट्रक्शन पर आरोप लगाते हुए पार्टी प्रवक्ता अजय नाथ शाहदेव ने कहा है कि बिना प्रशासनिक स्वीकृति के कंपनी ने किसकी सहमति से भवन निर्माण में निर्धारित राशि से लगभग 400 करोड़ से ज्यादा का काम किया. दरअसल इस पूरे खेल के पीछे रघुवर सरकार में बैठे लोगों का हाथ है. ऐसा कर सरकार ने जनता की कमाई को पानी की तरह बहाने का काम किया है.

भ्रष्टाचार का जीता-जागता उदाहरण है यह निर्माण कार्य

कांग्रेसी नेता ने कहा कि राज्य की रघुवर सरकार अपने करीब चार साल के कार्यकाल में पूरी तरह भ्रष्टाचार में लिप्त रही है. हाई कोर्ट भवन निर्माण इसका जीता-जागता उदाहरण है. भवन निर्माण लागत का एस्टीमेट कॉस्ट किसी के इशारे पर बढ़ता गया, फिर भी सरकार पूरी तरह चुप रही. रघुवर सरकार की मंशा इससे भी साफ होती है कि अब तक सरकार ने इसके लिए जांच कमिटी का गठन नहीं किया है. कमिटी गठन से संबंधित फाइल को राज्य सरकार दबाकर बैठी है. अपनी प्रेस विज्ञप्ति में अजय नाथ शाहदेव ने कहा कि पूर्व में जब हाई कोर्ट भवन निर्माण के 697.32 करोड़ रुपये के पुनरीक्षित प्राक्कलन के प्रस्ताव को निरस्त कर एक प्रशासनिक स्वीकृति की सीमा के अंदर कार्य पूरा करने का निर्देश सरकार को दिया गया था, तो आखिर किस कारण से यह कार्य अभी तक जारी रखा गया है.

ईमानदारीपूर्वक जांच करें, तो फंसेंगे कई मंत्री और अफसर

अजय नाथ शाहदेव ने कहा कि रघुवर सरकार राज्य में घोटालों को लेकर दिन-प्रतिदिन एक नया रिकॉर्ड बना रही है. यदि केवल हाई कोर्ट भवन निर्माण में ही ईमानदारीपूर्वक जांच की गयी, तो इसमें कई मंत्री और अफसर जांच के दायरे में आयेंगे. भाजपा पर आरोपों की बाढ़ लगाते हुए अजय नाथ शाहदेव ने कहा कि अपने अब तक के कार्यकाल में रघुवर सरकार ने झारखंड में घोटालों के सिवा और किया ही क्या है. यह सरकार का अंतिम वर्ष है, इसके बाद जनता अपना फैसला सुनाने के लिए तैयार बैठी है.

इसे भी पढ़ें- 2014 में स्मार्ट सिटी और  2019 में एक लाख डिजिटल गांव का जुमला सुनाया सरकार ने : जयशंकर चौधरी

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close