JharkhandRanchi

भूख से हुई मौत को रफा-दफा करने में लगी है रघुवर सरकार : सुप्रियो भट्टाचार्य

Ranchi: राज्य में भूख से हुई एक और मौत को गंभीरता से लेते हुए झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) ने रघुवर सरकार को निशाने पर लिया है. पार्टी केंद्रीय कार्यालय में शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बताया कि गत 5 जून की रात राज्य में घटी उक्त घटना पूरी तरह से  हृदयविदारक है. इसमें महुआडांड़ प्रखंड के दुरुप पंचायत के लुरगुमी कला गांव में रामचरण मुंडा की मौत भूख से हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें – alexa.com रैंकिंग में newswing.com को हिन्दी न्यूज पोर्टल श्रेणी में देश में 21वां रैंक

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि वर्तमान सरकार के विगत साढ़े 4 साल के कार्यकाल में भूख से लोगों की मौत का जो सिलासिला शुरू हुआ था, वह आज 20 तक पहुंच चुका है. इसके बावजूद सरकार पूरी तरह से सोयी हुई है. सरकार हर बार जांच का आदेश देकर मामले को रफा-दफा कर रही है. मौत के बाद राहत के नाम पर 50 किलो अनाज और अंत्येष्टि के लिए कुछ राशि उपलब्ध करा कर अपने दायित्व से पल्ला झाड़ रही है. इस दौरान उन्होंने खाद्य आपूर्ति मंत्री पर भी अपनी जिम्मेवारी को तय नहीं करने का भी आरोप लगाया.

advt

इसे भी पढ़ें – नोट गिनने में आगे हैं झारखंड के युवा, अंग्रेजी पढ़ने में हैं काफी पीछे

भूख से लोग मर रहे, वहीं पीएम योग से जिंदगी बदलने की करते हैं बात

योग दिवस के अवसर पर पीएम मोदी के रांची आगमन को लेकर सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि राज्य में भूख और पानी की समस्या से लोग मौत के कगार पर हैं. दूसरी तरफ देश के प्रधानमंत्री आसन और प्राणायाम से लोगों की जिंदगी बदलने की बात कर रहे हैं. इस दौरान क्रिकेट वर्ल्ड कप के पहले मैच में महेंद्र सिंह धौनी द्वारा लगाये बलिदान बैच मामले पर कहा कि यह हमारा गर्व का प्रतीक है. इसके प्रति सम्मान देश के हर नागरिक के दिल में है. यह दुखद है कि आइसीसी इस तरह का विरोध कर रहा है. यह देश बलिदानों का देश है और खास कर झारखंड बलिदानों का राज्य है. पार्टी आइसीसी के इस निर्णय की पूरी तरह से निंदा करती है.

इसे भी पढ़ें- पूर्व टाउन प्लानर घनश्याम अग्रवाल चाहते हैं नगर निगम में वापसी, कर रहे हैं लॉबिंग

विचार-विमर्श से होगी सीट बंटवारे पर बातचीत

विधानसभा चुनाव में महागठबंधन की स्थिति को स्पष्ट करते हुए पार्टी महासचिव ने कहा कि इसे लेकर सभी पार्टियां समीक्षा कर रही हैं. इस माह के अंत तक सभी दलों के साथ विचार-विमर्श कर सारी बातें तय हो जाने की उम्मीद है. इस दौरान सभी घटक दल एक-एक सीट पर बैठ कर बात करेंगे. इसके अलावा महागठबंधन पर पार्टी की भूमिका क्या होगी, इसके लिए पार्टी केंद्रीय समिति की बैठक आगामी 15-16 जून को बुलायी गयी है.

adv

इसे भी पढ़ें – पीएमसीएच के ब्लड बैंक में खून की कमी, परिजन परेशान

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button