JharkhandLead NewsRanchi

रघुवर ने राज्यपाल से की लातेहार डीसी को निलंबित करने की मांग, कहा- विधायक बंधु तिर्की की भूमिका भी संदिग्ध

Ranchi : पूर्व सीएम और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने राज्यपाल रमेश बैस से लातेहार डीसी की शिकायत की है. उन्होंने पत्र लिख कर डीसी अबू इमरान को स्थानांतरित करते हुए निलंबित करने की मांग की है. कहा है कि डीसी का रवैया गैर जवाबदेह है. एक जनप्रतिनिधि को धर्म के नाम पर अपने कर्तव्य और कार्य से रोकने का प्रयास कर रहे हैं.

कांग्रेस विधायक बंधु तिर्की को लातेहार जिले में नहीं आने को कह रहे हैं. बंधु तिर्की की भी भूमिका दोषपूर्ण है. इस मामले में उन्होंने पूरी घटना की शिकायत वरीय अधिकारियों या अपनी पार्टी नेताओं से नहीं की.

advt

इसे भी पढ़ेंः रूक-रूककर हो रही बारिश से खरकई व स्वर्णरेखा का जलस्तर बढ़ा, अलर्ट

सरकारी नियमों और प्रशासनिक नियमों का उल्लंघन

रघुवर दास ने कहा कि कुछ दिन पूर्व लातेहार में करमा पूजा के दौरान आदिवासी समाज की 7 छोटी बच्चियां डूब गयी थीं. बंधु तिर्की मृतकों के परिजनों से मिलने गये थे. डीसी से सहयोग की बात की थी. जिले का डीसी पीड़ित परिवार को सहयोग करने के बजाय बंधु तिर्की के साथ बातचीत में धर्म के नाम पर अपने दायित्वों से रोक रहे हैं.

अपनी बातचीत के क्रम में आइएएस अधिकारी अबू इमरान इस बात की दुहाई दे रहे हैं कि कांग्रेस के विधायक मुसलमानों के वोट पर ही जीत कर आये हैं. अर्थात कहने का मतलब है कि यदि मुसलमान कांग्रेस को वोट नहीं करते तो कांग्रेस पार्टी चुनाव नहीं जीत पाती.

इसे भी पढ़ेंःसुनिए वायरल ऑडियो, खुद को इरफान अंसारी बताने वाला यह शख्स एसडीएम का नाम लेकर दे रहा कैसी गाली !

विधायक को समझा रहे हैं कि जिले का डीसी, वहां का सीओ और गांव वाले सभी मुसलमान हैं, इसलिए विधायक का वहां पर आना पूर्ण रूप से अनुचित होगा.

डीसी द्वारा इस प्रकार की सांप्रदायिक बातें एक राज्य के जनप्रतिनिधि से करना सभी सरकारी नियमों और प्रशासनिक नियमों का उल्लंघन है. दर्शाता है कि किस प्रकार से झारखंड की वर्तमान सरकार तुष्टिकरण की राजनीति कर रही.

अल्पसंख्यकों में भेदभाव और आपसी मनमुटाव बढ़ाने के उद्देश्य से इस प्रकार के गंदे और संकीर्ण मानसिकता रखनेवाले अधिकारियों का पदस्थापन लातेहार जैसे संवेदनशील जिला में किया है.

इसे भी पढ़ेंःIPL 2021 में फिर कोरोना की एंट्री, दिल्ली के खिलाफ मैच के पहले सनराइजर्स हैदराबाद का ये खिलाड़ी निकला कोरोना संक्रमित

उन्होंने कहा कि डीसी का आचरण और कार्यशैली अत्यंत निंदनीय तो है ही, इसके साथ-साथ जिस जनप्रतिनिधि के साथ उनकी बातचीत हो रही है, उनकी भी भूमिका अत्यंत निंदनीय, गंदी और तुष्टीकरण की राजनीति से भरपूर नजर आती है.

यदि कांग्रेसी विधायक के मन में जरा सी भी शर्म होती और अपने कर्तव्य और संविधान के प्रति ली हुई प्रतिज्ञा और शपथ पर आस्था होती तो वह खुद ब खुद इस पूरी घटना की शिकायत उच्च स्तर पर करते.

स्पष्ट है कि यह कांग्रेसी विधायक केवल और केवल वोट बैंक की राजनीति जानते हैं और उन्हें आदिवासी समाज की बच्चियों के प्रति कोई संवेदना नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःभारत से ब्रिटेन की यात्रा करने वाले लोगों को राहत, ब्रिटेन ने दी ‘कोविशील्ड’ को मान्यता

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: