JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

रघुवर दास ने लगाया कल्पना सोरेन पर CNT के उल्लंघन का आरोप, पूजा सिंघल प्रकरण की CBI जांच की मांग

Ranchi : पूर्व सीएम रघुवर दास ने गुरुवार को आरोप लगाया कि सीएम हेमंत सोरेन के संरक्षण में उनकी पत्नी कल्पना मुर्मू सोरेन ने झारखंड में जमीन की लूट की है. प्रदेश भाजपा कार्यालय में प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि ओड़िशा के आदिवासी समाज से आनेवाली कल्पना ने 2009 में अरगोड़ा थाना क्षेत्र में 13 कट्ठा 14 छटाक जमीन (डीड सं 3881/3368, 9.03.2009) ली. इसके अलावे 17 कट्ठा 8 छटाक आदिवासी जमीन (1267/1084, 7.02.2009) ली गयी. इसका सरकारी मूल्य करीब एक करोड़ रुपये होता, पर लगभग 10 लाख ही विक्रय मूल्य दिखाया गया. डीड में पति हेमंत के बदले अपने पिता का नाम अम्पा माझी बताया, जाति संथाली बताई, पता हरमू कॉलोनी, रांची बताया. सीएनटी प्रावधानों के अनुसार दूसरे राज्य के आदिवासी को झारखंड में आरक्षण और अन्य लाभ संभव नहीं.

इसे भी पढ़ें : पटना सिटी में कबाड़ कारोबारी की हत्या में दो आरोपी गिरफ्तार

जमीन खरीद के मामले में भी एक ही थाना क्षेत्र का क्रेता-विक्रेता का होना जरूरी है पर कल्पना सोरेन मामले में ऐसा नहीं हुआ है. इसमें मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला बनता है. अभी इस पर सोहराय भवन बना हुआ है. हेमंत सरकार के आने के बाद इस मामले में उनके समय में शुरू हुई जांच को रोक दिया गया. अरगोड़ा की तरह कल्पना सोरेन ने राज्य के दूसरे कई जिलों में भी जमीन की लूट की है. इस तरह के काम में सीएम की साली सरला मुर्मू भी शामिल हैं. वे राज्यपाल से मिल कर इस मामले की शिकायत करेंगे. वार्ता में पूर्व विधायक और पार्टी प्रवक्ता कुणाल षाडंगी और पूर्व विधायक राम कुमार पाहन भी उपस्थित थे.

Sanjeevani

जमीन आवंटन पर सरकार का नहीं मिला जवाब

रघुवर दास ने कहा कि झामुमो वाले पिछले कुछ दिनों से उनको तलाश रहे हैं. वे हेमंत सरकार के करप्शन के महासागर में लूट का रत्न खोजने में लगे थे. उन्होंने चान्हो, रांची के इंडस्ट्रियल एरिया में कल्पना सोरेन के नाम पर आवंटित जमीन (सोहराई लाइवस्टोक फर्म प्रा.लि., 11 एकड़) पर 25 अप्रैल को सरकार से जवाब मांगा था. इस पर अब तक कोई सूचना सरकार ने नहीं दी है. सच यह है कि राज्य का कस्टोडियन, रखवाला होता है. पर सीएम ही लुटेरा हो गये हैं. पत्नी, साले और परिवार के साथ लूट में लगे हैं. इस सरकार का एक ही नारा है- गरीब आदिवासियों को दिखाया सपना, सारा सरकारी माल अपना.

इसे भी पढ़ें : चाईबासा : 20 मई से होगा बिरसा मुंडा क्रिकेट स्टेडियम में समर क्रिकेट कैंप का आयोजन

रोहिंग्याई बांग्लादेशी रहे शांत

मीडिया द्वारा यह कहे जाने पर कि भाजपा को आदिवासी सीएम पसंद नहीं है, उन्होंने कहा कि महागठबंधन में दो भोंपू हैं. बगैर नाम लिये कहा कि एक भोंपू रोहिंग्या बांग्लादेशी है. वे अपना भला चाहते हैं तो उनका मुंह न खोलवाएं. झारखंड अलग राज्य के आंदोलन में शिबू सोरेन ने बड़ी कुर्बानी दी थी. उनके साथ चार माह सरकार में कार्य करने का मौका मिला. झामुमो अध्यक्ष और इतने सम्मानित नेता को आज झामुमो ने ही दरकिनार कर दिया है. जब उन्हें एक विधानसभा सीट की जरूरत थी तो उनके परिवार के ही किसी सदस्य ने अपनी सीट नहीं दी. अभी लुटेरे हेमंत ने झामुमो को झारखंड मुद्रा मोचन पार्टी बना दिया है. अगर हेमंत सरकार में हिम्मत है तो पंचायत चुनाव के बाद अपने मुख्यमंत्रित्व काल और भाजपा सरकार में आदिवासी हितों पर किये गये काम के लिए मोरहाबादी में आमने सामने बैठकर बहस कर लें.

पूजा सिंघल पर हेमंत का ड्रामा

रघुवर दास ने पूजा सिंघल प्रकरण पर कहा कि किसी अफसर पर दो तरह के केस लगते हैं. आपराधिक और विभागीय केस. पूजा पर अभी आपराधिक मामले में ही केस दर्ज हुआ है और ईडी अपना काम कर रही है. पूजा पर उनके समय जो आरोप लगे थे, उसकी अपर मुख्य सचिव से जांच कराने के क्रम में कोई सबूत हाथ नहीं लगे थे. अगर हेमंत सरकार को लगता है कि उनकी सरकार में पूजा के मामले में लापरवाही हुई तो उन्हें किसने रोका है. सारी फाइलें उनके पास हैं. जांच करा लें. हिम्मत है तो सीबीआइ जांच करा ली जाये. सरयू राय का नाम लिये बगैर कहा कि कुछ लोगों ने सरकारी सुपारी ले रखी है. वे सुपारी नेता हैं. झूठ मूठ का आरोप लगा रहे हैं. अब तक किसी को कोई प्रमाण नहीं मिला है. सांच को आंच क्या.

इसे भी पढ़ें : ग्यारहवीं के प्रश्न पत्र सोशल मीडिया पर वायरल करने वाला आरोपी Ranchi से गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button