National

राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

विज्ञापन

NewDelhi : राफेल सौदे की पुनर्विचार याचिका को लेकर SC की पीठ के समक्ष आज याचिकाकर्ता प्रशांत भूषण और अन्य ने लिखित में अपना पक्ष रखा.बता दें कि इससे पहले अदालत में 10 मई को मामले की सुनवाई हुई थी. सुनवाई में केंद्र सरकार ने न्यायालय से कहा था कि उसने राफेल लड़ाकू विमान की खरीद के मामले में कोई गलत जानकारी अदालत को नहीं दी है. सरकार ने  SC में कहा था कि कुछ मीडिया रिपोर्ट और गैरकानूनी तरीके से हासिल अधूरी आतंरिक नोट के आधार पर पुनर्विचार याचिका दायर करने वालों ने परजूरी (शपथ लेकर गलत बयान देना) आवेदन दाखिल किया है, लिहाजा इसे खारिज किया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःसुरजेवाला ने कहा- जब कामकाज में निष्पक्ष नहीं आयोग तो कैसे कराएगा निष्पक्ष चुनाव 

  सुप्रीम कोर्ट में सीएजी की रिपोर्ट पर सवाल उठाया था

वहीं, याचिकाकर्ताओं ने भी सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल कर सीएजी की रिपोर्ट पर सवाल उठाया था.  सीजेआइ न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली न्यायालय की पीठ इस मसले पर सुनवाई कर रही है. अदालत में हलफनामा दायर कर सरकार ने कहा था कि कानूनन, मीडिया रिपोर्ट के आधार पर अदालत कोई निर्णय नहीं लेती.

सरकार ने कहा था, खरीद निर्णय लेने की प्रक्रिया कई चरणों में होती है और कई जगहों या अधिकारियों से होकर गुजरती है. अपूर्ण आंतरिक रिपोर्ट के आधार पर परजूरी का आवेदन दाखिल नहीं किया जा सकता। मीडिया रिपोर्ट पूरे घटनाक्रम और प्र क्रिया की सही तस्वीर पेश नहीं करती, वह महज प्रक्रिया का एक हिस्सा है.

सरकार ने कहा है परजूरी आवेदन पूरी तरह से मिथ्या और आधारहीन तथ्यों पर आधारित है और इसके जरिए राफेल विमान के मामले को फिर से खोलने का प्रयास है, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने गत वर्ष 14 दिसंबर को अपना फैसला देकर खत्म कर दिया था.

इसे भी पढ़ेंः गठबंधन को खराब बताने वाली मोदी-शाह के NDA में 41 पार्टियां, जानें कौन-कौन दल हैं एनडीए में शामिल

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close