Lead NewsNational

सीनियर महिला IAS अफसर को अश्लील मैसेज भेजने के विवाद फंसे थे पंजाब के नये घोषित CM चरणजीत सिंह चन्नी

चन्नी ने कहा था गलती से चला गया था मैसेज, अधिकारी से मांग ली थी माफी

New Delhi : पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के शनिवार शाम को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था. इसके करीब 24 घंटे बाद आज कांग्रेस ने अपना नया सीएम चुन लिया है. चरण जीत चन्नी पंजाब के नए मुख्यमंत्री होंगे. पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने उनको विधायक दल का नेता चुने जाने का ऐलान किया है.

इसे भी पढ़ें :खनिज ढोने वाले वाहनों से वसूली गयी फीस की राशि उसी क्षेत्र की सड़कों के विकास पर होगी खर्च

अकाली दल पर राजनीति करने का लगाया था आरोप

Catalyst IAS
ram janam hospital

अमरिंदर सरकार में पंजाब के तकनीकी शिक्षा मंत्री रहे चरणजीत सिंह चन्नी तीन साल पहले एक सीनियर महिला आइएएस अफसर को अश्लील मैसेज भेजने की वजह से विवाद में फंसे थे. उस समय वे विदेश यात्रा पर गये हुए थे. विदेश यात्रा से लौटने के बाद चन्नीफ ने कहा था कि उन्होंरने गलती से महिला अधिकारी को मैसेज भेज दिया था. इसके लिए महिला अधिकारी से माफी मांग ली थी और मामला खत्मि हो गया था.. इसके बाद शिरोमणि अकाली दल ने साजिश रचकर इसे राजनीतिक रंग दिया है.. चन्नी. ने कहा था कि इस तरह की घटिया राजनीति करना शर्मनाक है.अकाली दल इस मामले में राजनीति कर रहा है.. यह सही नहीं है और इस तरह से उसकी मंशा पूरी होने वाली नहीं है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें :झारखंड आंदोलनकारियों पर लाठी बरसाने वाला राजद कर रहा झारखंड के हितों का दिखावाः दीपक प्रकाश

ये नाम थे सीएम पद की दौड़ में

सीएम की दौड़ में नवजोत सिद्धू, सुनील जाखड़, सुखजिंदर सिंह रंधावा, रवनीत सिंह बिट्टू, प्रताप सिंह बावजा और अंबिका सोनी जैसे नाम आगे बताए जा रहे थे लेकिन बाजी चन्नी के साथ लगी है. ऐसे में कई लोग उनके के ऐलान से चौंक भी रहे हैं. आइए जानते हैं कि चरणजीत सिंह चन्नी कौन हैं.

इसे भी पढ़ें :गम्हरिया लैंपस के अध्यक्ष बास्को बेसरा पर है 13 लाख का लोन, फिर भी मिल गयी चुनाव लड़ने की एनओसी

तीन बार से कांग्रेस के विधायक रहे हैं चन्नी

चरणजीत सिंह चन्नी लगातार तीन बार से कांग्रेस के विधायक हैं. पंजाब की चमकौर साहिब विधानसभा सीट से वो विधायक चुनकर आते रहे हैं. 2017 में कांग्रेस की सरकार आने के बाद अमरिंदर सिंह के मंत्रिमंडल में उनको कैबिनेट मंत्री बनाया गया था. अमरिंदर सिंह के इस्तीफे से पहले उनके पास टेक्नीकल एजुकेशन और इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग विभाग था. अकाली दल और भाजपा की सरकार के समय 2015 से 2016 तक चन्नी पंजाब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :धनबाद : कोयलांचल में 6 दिनों से वाटर सप्लाई बंद, 6 लाख की आबादी प्रभावित

Related Articles

Back to top button