Lead NewsNational

पंजाब के नये CM चन्नी ने VIP कल्चर को दिखाया ठेंगा, कहा 2,00,00,000 रुपये की कार के इस्तेमाल की विलासिता अनुचित

सुरक्षा में लगे 1000 पुलिसकर्मियों की फौज कम करने का भी दिया निर्देश 

Chandigarh :  पंजाब के नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि वे सादा जीवन और उच्च विचार के हिमायती हैं, इसलिए वे वीआइपी संस्कृति के खिलाफ हैं. उन्होंने कहा कि मुझे आलीशान जीवन शैली का शौक नहीं है.

मुख्यमंत्री ने आईके गुजराल पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय में गुरुवार को अपने संबोधन के दौरान कहा कि उन्हें यह जानकर आश्चर्य हुआ कि अचानक मेरे पदभार संभालने के बाद मेरी सुरक्षा के लिए 1000 सुरक्षाकर्मी तैनात हो गये हैं. उन्होंने इसे सरकारी संसाधनों की बर्बादी करार देते हुए कहा कि इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती क्योंकि मेरे अपने पंजाबियों को मेरा क्या नुकसान होगा क्योंकि मैं भी उनकी तरह एक आम आदमी हूं.

चन्नी ने कहा कि उन्होंने अपनी जान को खतरा होने के संबंध में खुफिया एजेंसियों द्वारा दिए गए तर्क को खारिज करते हुए पुलिस से अपनी सुरक्षा कम करने को कहा है.

advt

इसे भी पढ़ें :गोली और बम के धमाकों से दहला धनबाद, पुलिस के सामने हुई हिंसक झड़प

कमरे जितनी बड़ी कार

मुख्यमंत्री ने यह भी चुटकी ली कि उन्हें यह जानकर आश्चर्य हुआ कि राज्य के मुखिया होने के नाते वे आरामदायक यात्रा के लिए कमरे जितनी बड़ी कार के भी हकदार हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात से निराशा हुई कि इस कार को खरीदने के लिए करदाताओं के पैसे से 2 करोड़ रुपये खर्च किए गए.

इसे भी पढ़ें :JSSC में क्षेत्रीय एवं जनजातीय भाषाओं की श्रेणी से हिंदी-अंग्रेजी को बाहर करने के खिलाफ हाइकोर्ट में रिट याचिका दायर

जानकर गुस्सा आया कि जनता के पैसों से इतनी महंगी कार खरीदी

चन्नी ने कहा कि यह विलासिता अनुचित और अवांछनीय है क्योंकि इन निधियों का उपयोग जनता के कल्याण के लिए किया जा सकता था, विशेष रूप से कमजोर और वंचित वर्गों के लोगों के कल्याण के लिए. उन्होंने कहा, “यह जानकर गुस्सा आया कि जनता के पैसों से सीएम के लिए ₹2 करोड़ की एक कमरे जितनी बड़ी कार खरीदी गई थी.”

चन्नी ने कहा कि वह एक आम आदमी और हर पंजाबी का भाई है. उन्होंने कहा कि सरकारी कामकाज में वीआईपी संस्कृति को खत्म करने की जरूरत है जिससे आम जनता को सुविधा हो.

चन्नी ने अपनी सुरक्षा कम करने की घोषणा करते हुए कहा, “मैं आप में से एक हूं और मुझे अपने ही भाइयों से मेरी रक्षा के लिए 1000 सुरक्षा कर्मियों की सेना की आवश्यकता नहीं है.”

चन्नी ने यह भी कहा कि वे वीआईपी नहीं बल्कि एक सामान्य पंजाबी हैं और कोई भी उन्हें अपने फोन पर कभी भी कॉल कर सकता है क्योंकि वह 24X7 लोगों की सेवा के लिए उपलब्ध हैं.

इसे भी पढ़ें :IAF का एयरबस से 22,000 करोड़ का करार, जानें किस औद्योगिक घराने को मिली C-295 एयरक्राफ्ट्स बनाने की डील

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: