Corona_UpdatesHEALTHLead NewsNational

स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में पुणे No. 1, जानिये अन्य महानगरों का क्या है हाल

दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सबसे निचले स्थान पर

New Delhi : स्वास्थ्य सुविधाओं से बुनियादी ढांचे से जुड़े मानदंडों के लिहाज से देश के प्रमुख शहरों की रैंकिंग की गयी है. इस रैंकिंग में शीर्ष आठ शहरों में पुणे पहले स्थान पर रहा. वहीं दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सबसे निचले स्थान पर रहा है.

स्वास्थ्य ढांचे से जुड़े मानदंडों में अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या, हवा-पानी की गुणवत्ता और स्वच्छता जैसे कई मानदंडों को शामिल किया गया है.

advt

अमेरिकी मीडिया कंपनी न्यूज कॉर्प और उसकी ऑस्ट्रेलियाई समूह कंपनी आरईए के स्वामित्व वाले रियल स्टेट पॉर्टल हाउसिंग डॉट कॉम ने बुधवार को ‘भारत में स्वास्थ्य सेवा की स्थिति’ रिपोर्ट जारी की.

इसे भी पढें :66 साल के शख्स ने की 16 शादियां, 151 बच्चों का पिता करना चाहता है 17 वां मैरेज

इन आठ बड़े शहरों को किया गया शामिल

रिपोर्ट में भारत के सबसे बड़े आठ शहरों में स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के हिसाब से रैंकिंग तैयार की गई है. इन शहरों में अहमदाबाद, बेंगलुरू, चेन्नई, दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) और पुणे शामिल हैं.

रैंकिंग प्रति 1,000 लोगों पर अस्पताल के बिस्तरों की संख्या, वायु गुणवत्ता, जल गुणवत्ता, स्वच्छता, रहने लायक स्थिति के इंडेक्स जैसे मानदंडों के हिसाब से तय की गयी है और अस्पताल के बिस्तरों की संख्या के लिए सबसे ज्यादा 40 प्रतिशत अंक दिए गए हैं.

पोर्टल ने कहा, “स्वास्थ्य ढांचे के लिहाज से पुणे देश का सबसे अग्रणी शहर है और जहां प्रति 1,000 लोगों पर बिस्तरों की संख्या 3.5 है.”

पुणे रहन- सहन, पानी की गुणवत्ता तथा स्थानीय सरकार द्वारा उठाये गये बेहतर कदमों के लिहाज से भी मानदंडों में बेहतर स्थान पाने में सफल रहा है.

भारत में प्रत्येक 1,000 लोगों पर मात्र 0.86 डॉक्टर

वहीं भारत में प्रत्येक 1,000 लोगों पर मात्र 0.86 डॉक्टर उपलब्ध हैं जबकि दुनिया की अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में यह संख्या प्रत्येक 1,000 लोगों पर दो-चार डॉक्टरों की है.

रिपोर्ट के अनुसार भारतीय स्वास्थ्य प्रणाली में प्रति 1,000 लोगों पर निजी एवं सरकारी अस्पतालों में बिस्तरों की कुल उपलब्धता को ध्यान में रखें तो यह संख्या केवल 1.4 है.

अहमदाबाद सूची में दूसरे स्थान पर

प्रति 1,000 लोगों पर करीब 3.2 बिस्तरों के साथ अहमदाबाद सूची में दूसरे स्थान पर है. दिल्ली-एनसीआर के सूची में सबसे आखिरी स्थान पर आने की वजह क्षेत्र में हवा-पानी की खराब गुणवत्ता, स्वच्छता का अपेक्षाकृत खराब स्तर और नगर निगमों का खराब प्रदर्शन है. दिल्ली- एनसीआर में राष्ट्रीय राजधानी दिलली के साथ ही, गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद शामिल है.

इसे भी पढें :इजरायल को ‘आतंकवादी देश’ बताने पर जमकर ट्रोल हुईं बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर

मुंबई महानगर चौथे स्थान पर

हाउसिंग डॉट कॉम की स्वास्थ्य ढांचे की मौजूदगी से संबंधित इस सूची में मुंबई महानगर चौथे स्थान पर रहा है. जनसंख्या के मुकाबले अस्पताल में बिस्तरों की संख्या, वायु गुणवत्त और रहन सहन के खराब स्तर की वजह से उसका स्कोर कम रहा है.

हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता का ये स्थान रहा

सूची में हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता को क्रमश: पांचवा, छठा और सातवां स्थान मिला है. हाउसिंग डॉट कॉम, मकान डॉट काम और प्राप टाइगर डॉट कॉम के समूह मुख्य परिचालन अधिकारी मणि रंगराजन ने कहा, कि भारत एशिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवसथा है उसे अपने स्वास्थ्य ढांचे में खर्च काफी बढ़ाना होगा. भारत को गुणवत्ता परक स्वासथ्य ढांचा खड़ा करने की आवश्यकता है.

इसे भी पढें :देवघर में ICU Bed के लिए 11 हजार से अधिक नहीं ले सकेंगे अस्पताल, जिला प्रशासन ने जारी की चेतावनी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: