न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#PulwamaAttack की पहली बरसी, शहीद जवानों की याद में बने स्मारक का आज होगा उद्घाटन

833

Srinagar: पिछले साल 2019 के 14 फरवरी में हुए पुलवामा आतंकी हमले को एक साल हो गये. इस दिन शाम होते-होते पूरा देश गम में डूब गया था. क्योंकि 14 फरवरी, 2019 को दोपहर करीब साढ़े तीन बजे जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले से एक गाड़ी टकरायी थी जिसके बाद बड़ा धमाका हुआ.

ये हमला जम्मू-कश्मीर में किसी सेना के काफिले पर हुआ अबतक का सबसे बड़ा हमला था. इस हमले में 40 जवानों ने अपनी जान खो दी. इस आतंकी हमले के बाद पूरा देश गम में था. और आज भी इसे लेकर लोगों के मन में आतंकवादियों के खिलाफ गुस्सा है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020
#PulwamaNahinBhulenge देश के लिए दर्द का एक साल. इस हमले ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. पूरा देश गम में डूब गया था. देश ने एक साथ 40 जवानों को खो दिया था.

इसमें शहीद 40 सीआरपीएफ जवानों की याद में बनाये गये स्मारक का लेथपुरा कैंप में शुक्रवार को उद्घाटन किया जाएगा.

सीआरपीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने कहा कि यह उन बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि देने का तरीका है जिन्होंने हमले में अपनी जान गंवायी.

स्मारक में उन शहीद जवानों के नामों के साथ ही उनकी तस्वीरें भी होंगी. साथ ही केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) का ध्येय वाक्य ‘‘सेवा और निष्ठा’’भी होगा.

इसे भी पढ़ें- लालू के समधी चंद्रिका RJD छोड़ने को तैयार, JDU हो सकता है अगला पड़ाव

दुश्मनों को खत्म करने का हमारा संकल्प मजबूत

हसन ने बताया कि निश्चित रूप से यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी और हमने इससे सीख ली है. हम अपनी आवाजाही के दौरान हमेशा सतर्क रहते थे, लेकिन अब सतर्कता और बढ़ गयी है. उन्होंने कहा कि 40 जवानों के सर्वोच्च बलिदान ने देश के दुश्मनों को खत्म करने का हमारा संकल्प मजबूत बना दिया है.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

उन्होंने कहा कि हम आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान अतिरिक्त जोश से लड़ते हैं और यही कारण है कि अपने जवानों पर हमले के तुरंत बाद हम जैश-ए-मोहम्मद के कमांडरों को खत्म करने में सफल रहे.

#Pulwamamartyrs जैसे ही इस घटना की जानकारी मिली फौरन ही सेना को घटनास्थल पर भेज दिया गया था. घटनास्थल पर मातम पसरा हुआ था. जिसने भी इस मंजर को देखा उसकी आंखें नम हो गयी.

उन्होंने हालांकि उन सावधानियों के बारे में बताने से इंकार किया जो पिछले साल 14 फरवरी के हमले के बाद जवानों की आवाजाही के दौरान बरती जाती हैं. लेकिन अधिकारियों ने कहा कि अब जवानों की आवाजाही अब अन्य सुरक्षाबलों और सेना के साथ समन्वय में होती है.

गृह मंत्रालय ने इस तरह के किसी भी हमले की आशंका से बचने के लिए सीआरपीएफ को अपने जवानों को वायु मार्ग से ले जाने की अनुमति दी थी.

इसे भी पढ़ें- #Delhi_Election : भाजपा की हार का सबक, अमित शाह ने कहा, गोली मारो…भारत-पाक मैच..जैसे बयान नहीं देने चाहिए थे 

जवानों को ले जाने वाले वाहनों को बुलेट-प्रूफ बनाने की प्रक्रिया तेज

जम्मू कश्मीर सरकार ने जवानों की आवाजाही को सुगम बनाने के लिए सप्ताह में दो दिन निजी वाहनों के चलने पर प्रतिबंध लगा दिया था. लेकिन स्थिति सामान्य होने के बाद बाद में आदेश को रद्द कर दिया गया.

#PulwamaTerrorAttack घटना के बाद शहीद जवानों के पार्थिव शरीर को ले जाते जवान. इस घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. आज भी जब इस घटना की याद आती है तो लोगों की रूह कांप जाती है.

जवानों को ले जाने वाले वाहनों को बुलेट-प्रूफ बनाने की प्रक्रिया को तेज किया गया और सड़कों पर बंकर जैसे वाहन देखे जाने लगे.

यह स्मारक उस स्थान के पास सीआरपीएफ कैंप के अंदर बनाया गया है जहां जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी अदील अहमद डार ने विस्फोटकों से भरी कार सुरक्षा बलों के काफिले से टकरा दी थी. इस हमले में 40 कर्मियों की मौत हो गयी थी.

इस हमले के लगभग सभी षडयंत्रकारियों को मार गिराया गया है. जैश-ए-मोहम्मद का स्वयंभू प्रमुख कारी यासिर भी पिछले महीने मारा गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like