National

पुलवामा हमले की आड़ में युद्ध भड़काने के खिलाफ रैली निकालने वालों के साथ धक्का-मुक्की,  आरोप हिंदूवादी संगठनों पर

विज्ञापन

Kolkata :  पुलवामा आतंकी हमले की पृष्ठभूमि में युद्ध की अफवाहें फैलाने के खिलाफ नागरिक एवं मानवाधिकार संगठन एसोसिएशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ डेमोक्रेटिक राइट्स’ (एपीडीआर) की रैली पर बुधवार को एक समूह ने हमला कर दिया.  एपीडीआर ने आरोप लगाया कि हमला करने वाले आतंकवाद के हमदर्द हैं.  खबरों के अनुसार एपीडीआर ने पुलवामा हमले की आड़ में युद्ध भड़काने और समाज का सांप्रदायिक तौर पर ध्रुवीकरण करने के प्रयासों के खिलाफ एक रैली का आह्वान किया था. इस क्रम में संगठन के कार्यकर्ता हाथों में तख्तियां थामे हुए थे और राष्ट्रों के बीच शांति की मांग करने वाले नारे लगा रहे थे. बता दें कि संगठन को कॉलेज स्ट्रीट से लेकर एस्प्लेनेड इलाके तक 2.8 किलोमीटर का रास्ता तय करना था.

 राष्ट्र विरोधी तत्वों का समर्थक होने का आरोप लगाया

सुरक्षा के मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गयी थी. जानकारी के अनुसार जब रैली मध्य कोलकाता में जानबाजार इलाके से गुजरी तो हाथों में राष्ट्र ध्वज थामे कुछ युवकों ने उनका रास्ता रोक लिया और एपीडीआर के कार्यकर्ताओं के खिलाफ नारे लगाये और उन पर पाकिस्तान तथा राष्ट्र विरोधी तत्वों का समर्थक होने का आरोप लगाया.  युवकों ने एपीडीआर कार्यकर्ताओं के साथ धक्का-मुक्की भी की. लेकिन पुलिस ने इसमें दखल देते हुए  युवकों को वहां से हटा दिया.  एपीडीआर ने हिंदूवादी संगठनों पर शांतिपूर्ण रैली पर हमला करने का आरोप लगाया है. इस संबंध में एपीडीआर की कार्यकर्ता सुजाता भद्र ने कहा,  हम केंद्र सरकार से डरने वाले नहीं हैं. हमारे पास अपने विचारों को पेश करने का अधिकार है.  हम उम्मीद करते हैं कि पुलिस ऐसे अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी.

इसे भी पढ़ें :  भारत के एक्शन से डरा मसूद अजहर, ऑडियो संदेश में कहा- जैश ने नहीं किया पुलवामा हमला

advt

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button