National

पुलवामा अटैकः एजेंसी के हाथ लगी अहम जानकारी- 2010 मॉडल की कार से हुआ आत्मघाती हमला

Shrinagar: पुलवामा आतंकी हमले को लेकर सरकार जहां लगातार पाकिस्तान पर दबाव बनाये हुए है. वहीं जांच एजेंसियां भी तेजी से अपने काम में जुटी हैं. हमले की जांच कर रही एजेंसियों को आत्मघाती दस्ते द्वारा प्रयोग में लाई गई कार को लेकर अहम सुराग मिले हैं. मामले की जांच कर रही एनआईए को पता चला है कि इस घटना को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल की गई गाड़ी 2010-11 मॉडल की मारुती ईको कार थी. दरअसल हमले के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) द्वारा घटनास्थल से कार के हिस्सों का मारूती के अधिकारियों द्वारा अध्ययन किया गया. जिससे ये बात सामने आयी है. साथ ही इस बात का भी खुलासा हुआ है कि 2010-11 मॉडल की मारुती ईको कार को कुछ समय पहले फिर से पेंट कराया गया था.

Jharkhand Rai

2010-11 मॉडल की ईको मारुती कार को हुआ इस्तेमाल

अंग्रेजी अखबार दि इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पुलवामा हमले की जांच कर रही एजेंसियों को आतंकियों द्वारा प्रयोग में लाई गई कार को लेकर जो अहम सुराग हाथ लगे हैं उसे सत्यापित किया जा रहा है. अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक जांच दलों को घटनास्थल से एक जरकन और नंबर अंकित धातु का टुकड़ा मिला है. खबर है कि यह जरकन 20-25 लीटर का था, जिसमें 30 किलोग्राम आरडीएक्स पैक कर आईईडी बम बनाकर कार में रखा गया था.

प्रत्यदर्शियों के मुताबिक यह कार लाल रंग की थी. इसके साथ ही कार के शॉकर का हिस्सा भी मिला है. जिससे अब यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि कार कब की बनी है और इसे बेचा कब गया है. कार को लेकर और जानकारी जुटाने के लिए एजेंसियां कश्मीर में पिछले दिनों कार चोरी को लेकर हुई एफआईआर का डेटा भी खंगाल रही हैं. हालांकि, जांच दल को इस बात का भी शक है कि हो सकता है कि कार किसी दूसरे राज्य से चुराई गई हो या फिर चुराई ही नहीं गई हो. अगर कार चोरी की नहीं निकली तो जांच दल को भरोसा है कि इससे कार के मालिक तक पहुंचा जा सकता है.

उल्लेखनीय है कि 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर इसी विस्फोटक लदी कार से आत्मघाती आतंकी हमला हुआ था जिसमें देश ने 40 वीर जवानों को खो दिया. इस हमले के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इसकी जिम्मेवारी ली थी. जैश ने आत्मघाती हमलावर की पहचान पुलवामा के काकपोरा के रहने वाले आदिल अहमद डार बताई थी. अब NIA की टीम जल्द ही आदिल के परिवार से मिलकर डीएनए सैंपल लेगा. जिसका घटनास्थल से इकट्ठा किए गए सैंपल से मिलान कराया जाएगा, ताकि जैश के दावों की पुष्टि की जा सके.

Samford

इसे भी पढ़ेंः जंगल के रक्षक आदिवासियों को SC का फैसला कर देगा लहूलुहान, आंदोलन की राह पर झारखंड के आदिवासी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: