न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलवामा हमला : रक्षा विशेषज्ञ एकमत हुए कि पाकिस्तान को सबक सिखाने की जरूरत है

जनरल सिंह के अनुसार सरकार जानती है कि कब और कैसे इसका जवाब देना है.  कहा कि ऐसा हो सकता है कि  कार्रवाई तुरंत न हो, क्योंकि पाकिस्तान अभी चौकन्ना होगा.

201

NewDelhi : पुलवामा हमले को लेकर रक्षा विशेषज्ञों की राय भी है कि पाकिस्तान को सबक सिखाने की जरूरत है.  विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तान को कूटनीतिक रूप से अलग-थलग करने और सैन्य कदम उठाकर सबक सिखाया जाना चाहिए. इस संबंध में पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह ने कहा कि यह अच्छा संकेत है कि  देश के समग्र राजनीतिक नेतृत्व ने राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाई है.  इसके आधार पर कहा जा सकता है कि आतंकवाद को सरकारी नीति के रूप में इस्तेमाल करने वाले पाकिस्तान को निश्चित तौर पर सबक सिखाने की जरूरत है. जनरल सिंह के अनुसार सरकार जानती है कि कब और कैसे इसका जवाब देना है.  कहा कि ऐसा हो सकता है कि  कार्रवाई तुरंत न हो, क्योंकि पाकिस्तान अभी चौकन्ना होगा.  ऐसे में कार्रवाई करने के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है.

लेफ्टिनेंट जनरल दीपेंद्र सिंह हुड्डा, जो उरी आतंकी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक के समय उत्तरी कमान के कमांडर रहे थे, ने कहा, उरी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी. सैन्य बलों के सीमा पार जाकर कार्रवाई करने से लेकर वायुसेना के उपयोग तक, हमारे पास कई विकल्प हैं.  सरेआम इनका जिक्र नहीं किया जा सकता.  उनके अनुसा सीमा पर और कूटनीतिक स्तर पर पाकिस्तान पर दबाव भी बनाना होगा.

Trade Friends

समय और कार्रवाई राजनीतिक नेतृत्व को तय करना है

Related Posts

#Mexico ने अवैध रूप से अमेरिका में घुसने की कोशिश कर रहे 311 भारतीयों को दिल्ली भेजा

भारतीयों ने अमेरिका में प्रवेश के लिए एजेंट्स को दिये थे 30 -30 लाख  

WH MART 1

इस क्रम में पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त रह चुके जी पार्थसारथी ने कहते हैं कि पाकिस्तान को बेहद सख्त संदेश देना जरूरी है.  इस के लिए हमारे पास तमाम तरह के विकल्प है.  कूटनीतिक स्तर पर अलग करना सतत प्रक्रिया है.  सैन्य स्तर पर कार्रवाई करने को लेकर विकल्प हैं. समय और कार्रवाई राजनीतिक नेतृत्व को तय करना है. रक्षा मामलों के विशेषज्ञ ने कहा, घाटी में युवाओं में कट्टरपंथ के बढ़ते प्रभाव पर भी ध्यान देना होगा. जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा घाटी में घुसपैठ के बाद युवाओं को साथ जोड़ते हैं और कट्टरपंथी विचारधारा के दायरे में लाते हैं.  इस विषय पर भी सूक्ष्म रणनीति के तहत ध्यान देने की जरूरत है.

रक्षा विशेषज्ञ ब्रिगेडियर (सेवानिवृत) आर महालिंगम ने कहा कि यह बिल्कुल स्पष्ट है कि पुलवामा आतंकी हमले की साजिश पाकिस्तान में रची गयी. इसे अंजाम देने वालों को दंडित करना जरूरी है.  राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाते हुए व्यवस्थित रणनीति के तहत कार्रवाई करने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें :   सुरक्षा हटाने पर बोले कांग्रेस नेता सोज, कोई फायदा नहीं, हुर्रियत ने हिंसा को कभी बढ़ावा नहीं दिया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like