Corona_UpdatesJharkhandRanchi

जन प्रतिनिधि अपने क्षेत्र में रोल मॉडल बनें: डीसी

कोविड-19 के नियंत्रण को लेकर उपायुक्त ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मुखिया, ग्राम प्रधान, मानकी मुंडा, वार्ड सदस्य से की बात

Ranchi: कोविड-19 के रोकथाम समुचित इलाज एवं उपचार को लेकर आज उपायुक्त छवि रंजन ने सभी त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थानों के कार्यकारी समितियों के प्रधानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया.

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुखिया, ग्राम प्रधान, मानकी मुंडा, वार्ड सदस्य, संबंधित प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, प्रभारी प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड समन्वयक जुड़े थे.

बैठक के दौरान कोविड-19 के नियंत्रण, समुचित इलाज और जन जागरूकता को लेकर जनप्रतिनिधियों के साथ विचार विमर्श किया गया और उनसे सुझाव लिए गए.

advt

बैठक के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने जनप्रतिनिधियों से उनके क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों का फीडबैक लिया, साथ ही सभी से सुझाव भी मांगे.

इसे भी पढें :कोविशील्ड की दो डोज के बीच बढ़ा अंतराल, अब 12-16 सप्ताह के बीच लगेगा

adv

जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र में रोल मॉडल बनें : उपायुक्त

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मीटिंग के दौरान उपायुक्त ने जनप्रतिनिधियों ने कहा कि वह अपने-अपने क्षेत्र में लोगों के लिए रोल मॉडल बनें. उपायुक्त ने कहा कि कोविड-19 के दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुए जनप्रतिनिधि जागरूकता का भी कार्य करें.

उपायुक्त छवि रंजन ने जनप्रतिनिधियों से टीका लेने के साथ दूसरों को भी जागरूक करने की अपील की. उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र में टीकाकरण से जुड़ी विभिन्न भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका दिया जा सके और उन्हें सुरक्षित किया जा सके. उपायुक्त ने बताया कि उन्होंने स्वयं कोविड-19 टीका का दोनों डोज़ लिया है और वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं.

इसे भी पढें :इजरायल और फिलिस्तीन की जंग में उतरे क्रिकेटर इरफान पठान और एक्ट्रेस कंगना रनौत

दूसरी जगहों से आने वालों का 7 दिनों का होम क्वॉरेंटाइन सुनिश्चित करें

वर्चुअल मीटिंग के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने कहा कि कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए राज्य सरकार की ओर से नये दिशानिर्देश जारी किए गए हैं. जिसमें दूसरी जगह से आने वाले लोगों के लिए 7 दिनों तक होम क्वॉरेंटाइन जरूरी है.

सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों को उपायुक्त ने ऐसे व्यक्तियों का 7 दिनों का होम क्वॉरेंटाइन सुनिश्चित करने का निदेश दिया. बैठक के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने कहा कि जनप्रतिनिधि प्रखंड प्रशासन की मदद करते हुए अपने स्तर से बाहर से आने वाले लोगों की निगरानी करें, उनकी जांच कराएं और 7 दिनों का होम क्वॉरेंटाइन सुनिश्चित कराएं.

इसे भी पढें :UPSC ने 27 जून को होने वाला civil services pre-exam टाला, जानिये कब होगी परीक्षा

‘कोरोना से संबंधित दिशा निर्देशों के अनुपालन को लेकर मुहिम छेड़ें’

उपायुक्त छवि रंजन ने जनप्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना से संबंधित दिशा निर्देशों के अनुपालन को लेकर मुहिम छेड़ें.

हाट बाजार में जो लोग अनावश्यक रूप से जा रहे हैं उन्हें रोकें, जन जागरूकता का कार्य करें, SMS के अनुपालन पर जोर दें. उन्होंने संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी और एमओआईसी को इससे संबंधित प्रचार प्रसार करने का निर्देश दिया.

आइसोलेशन सेंटर और बेड की व्यवस्था को लेकर निर्देश

बैठक के दौरान उपायुक्त ने संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को प्रत्येक सीएचसी में बेड की व्यवस्था, ऑक्सीजन की उपलब्धता और क्वॉरेंटाइन सेंटर में व्यवस्था को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए.उपायुक्त ने प्रखंडों में जांच बढ़ाने को लेकर भी निर्देश दिए.

उन्होंने कहा कि प्रखंड विकास पदाधिकारी जांच केंद्र पर ही होम आइसोलेशन किट रखें ताकि जांच के उपरांत कोई व्यक्ति एसिंप्टोमेटिक पाया जाता है तो उसे वहीं से होम आइसोलेशन किट प्राप्त हो सके.

शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी फोकस – उपायुक्त

उपायुक्त छवि रंजन ने कहा कि शहरी क्षेत्र में कोरोना नियंत्रण के लिए किए जा रहे कार्यों के साथ-साथ जिला प्रशासन का ग्रामीण क्षेत्रों में भी फोकस है पदाधिकारियों द्वारा विभिन्न प्रखंडों में कोरोना संक्रमण की क्या स्थिति है, मरीजों के इलाज की क्या व्यवस्था है. इसका औचक निरीक्षण भी करवाया गया है. जिससे स्पष्ट हुआ कि शहरी क्षेत्र की तुलना में ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण कम है.

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ग्रामीणों के सहयोग के लिए पूरी तरह से तैयार है. संक्रमण को रोकने और टीकाकरण को बढ़ाने पर जिला प्रशासन द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित संवाद के दोनों पालियों के अंत में उप विकास आयुक्त रांची विशाल सागर द्वारा भी सभी जनप्रतिनिधियों को संबोधित किया गया.

विकास आयुक्त ने कहा कि कोरोना संक्रमण के रोकथाम और टीकाकरण के प्रोत्साहन में जनप्रतिनिधियों की भागीदारी काफी महत्वपूर्ण है. उन्होंने जनप्रतिनिधियों द्वारा दिए गए सुझाव की सराहना करते हुए कहा कि ज़िला प्रशासन बेहतर नीति बनाकर जल्द से जल्द धरातल पर उतारने का प्रयास करेगा.

इसे भी पढें :WHO ने कहा- भारत में धार्मिक और राजनीतिक आयोजनों की वजह से भी फैला संक्रमण

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: