न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मधु कोड़ा के खिलाफ पीआइएल करनेवाले ने टाटा सबलीज मामले में भी हाइकोर्ट में दायर की जनहित याचिका

305

Ranchi: झारखंड हाइकोर्ट में बुधवार को टाटा सबलीज मामले को लेकर जनहित याचिका दाखिल की गयी है. मिली जानकारी के अनुसार दुर्गा उरांव नाम के व्‍यक्ति ने टाटा सबलीज मामले को लेकर जनहित याचिका दाखिल की है.

इसमें पीएसी की अनुशंसा के अनुरूप पैसे की रिकवरी की मांग की गयी है. प्रार्थी का आरोप है कि मुख्‍यमंत्री रघुवर दास के बेटे और परिजन की नौकरी के होने के कारण रिकवरी नहीं हो पा रही है.

Sport House

पीएसी की अनुशंसा के अनुरूप टाटा पर 17.26 करोड़ रुपये का बकाया है. बता दें कि टाटा सबलीज मामले में हाइकोर्ट में जनहित याचिका दायर करने वाले दुर्गा उरांव ने मधु कोड़ा के खिलाफ भी पीआइएल दायर की थी.

इसे भी पढ़ें – #CAB के खिलाफ नॉर्थ ईस्ट में भड़का लोगों का गुस्सा, केंद्र ने भेजे अर्द्धसैनिक बलों के 5 हजार जवान, सर्वानंद सोनोवाल एक घंटे तक एयरपोर्ट ने नहीं निकल सके

क्या है टाटा सब लीज मामला

Related Posts

#Jamshedpur: बिना बोर्ड लगाये निजी मकान में चल रहा तहसील कार्यालय, पंजी-2 व खतियान से की जाती है छेड़छाड़

मानगो अंचल के तहसील कार्यालय में बाहरी लोगों का है कब्जा, वीडियो हुआ वायरल

मिली जानकारी के अनुसार झारखंड सरकार तथा कपंनी ने 20 अगस्त 2005 को पट्टेदारी के समझौते पर हस्ताक्षर किये थे. 20 अगस्त 2005 को झारखंड सरकार एवं मेसर्स टाटा स्टील लिमिटेड के बीच निष्पादित लीज एकरारनामा में स्पष्ट उल्लेख है कि टाटा स्टील से सबलीज पर ली गयी जमीन या उस पर निर्मित मकान-दुकान को किसी दूसरे को फिर सबलीज पर नहीं दिया जा सकता.

Mayfair 2-1-2020

इसके बावजूद बड़ी संख्या में सबलीज धारकों ने सबलीज किया. टाटा ने लीज की शर्तों के अनुसार क्षेत्र को विकसित करने के लिए 59 कंपनियों को सबलीज किया था. सरकार ने जांच में पाया कि सबलीज में व्यापक पैमाने पर गड़बड़ी की गयी है. इससे राज्य सरकार को बड़े पैमाने पर राजस्व की क्षति हुई है.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: लैंड बैंक, पांचवीं अनुसूची, भूख से मौत पर अखिर क्यों चुप हैं राजनीतिक दल?

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like