JharkhandLead NewsRanchi

पंकज मिश्रा का अब Psychiatrist करेंगे इलाज, अलग-अलग बीमारी बताने से डॉक्टर्स परेशान

Ranchi: ईडी आफिस में पूछताछ के दौरान पंकज मिश्रा को पेट में तेज दर्द की शिकायत के बाद रिम्स में एडमिट कराया गया था. जहां एडमिट कराने के बाद रिम्स में डॉक्टरों की टीम को उसके इलाज के लिए लगाया गया था. मेडिसीन, सर्जरी, क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट उनके इलाज में लगे हुए थे. लेकिन पंकज मिश्रा हर घंटे कुछ न कुछ अलग बीमारी बता रहे हैं. जिससे कि डॉक्टरों के लिए यह समझ पाना मुश्किल हो रहा है कि आखिर इलाज कैसे किया जाए और उसे कौन सी दवाएं दी जाए. यह देखते हुए अब रिम्स में पंकज मिश्रा का इलाज साइकियाट्रिस्ट से कराने का निर्णय बोर्ड ने लिया. इसके बाद साइकियाट्रिस्ट ने उनकी काउंसलिंग कर रिपोर्ट मेडिकल बोर्ड को सौंप दी है.

बोर्ड का कहना है कि जब सभी टेस्ट कराए जा रहे है तो उसकी काउंसेलिंग भी जरूरी है. तभी सारी चीजें स्प्ष्ट हो पाएगी कि उसे समस्या क्या है. फिलहाल टेस्ट के लिए सैंपल भेज दिए गए है. रिपोर्ट आने के बाद पता चल पाएगा कि उन्हें क्या परेशानी है.

इसे भी पढे़ं:सदन में सरकारः 407 स्कूलों को स्थानीय लोगों ने घोषित किया उर्दू स्कूल, 509 स्कूलों में रविवार की बजाय शुक्रवार को अवकाश

ram janam hospital
Catalyst IAS

चार दिन पहले कराया था रिम्स में एडमिट

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

चार दिन पहले इडी आफिस में पूछातछ के दौरान तबीयत बिगडने पर अधिकारियों ने उन्हें रिम्स में एडमिट कराया था. पंकज मिश्रा को क्रोनिक पैंक्रियेटाइटिस की समस्या भी है.मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में पंकज मिश्रा 19 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था.

वहीं 20 जुलाई को कोर्ट में पेश करने के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था. कोर्ट द्वारा पुलिस रिमांड के आदेश के आलोक में 21 जुलाई से इडी उनसे लगातार पूछताछ कर रही थी.

इसे भी पढे़ं:लालू यादव इलाज के लिए अब जा सकेंगे विदेश, पासपोर्ट रिन्यूअल की मिली अनुमति

थोड़ी-थोड़ी देर में बदल रही बीमारी

मेडिकल बोर्ड के सदस्य मेडिसीन के डॉ विद्यापति ने बताया कि कई डॉक्टर उनका इलाज कर रहे हैं. हर दिन डाक्टरों को नई नई बीमारियां बता रहा है. जिससे डाक्टर काफी परेशान हैं. इसलिए सभी तरह के टेस्ट किए जा रहे है. साइकियाट्रिक ट्रीटमेंट भी उसी का हिस्सा है.

वह कभी सिर दर्द बता रहा है तो कभी सीने में दर्द, कभी कांपने की शिकायत तो कभी बुखार की बात कर रहा है. सभी जांच रिपोर्ट आने के बाद ही दवाएं लिखी जाएगी.

इसे भी पढे़ं:Monsoon Session: सदन में छलका युवा विधायक शिल्पी का दर्द, बोली- सोचा कुछ सिखूंगी मगर यहां तो लज्जा आ रही है

Related Articles

Back to top button