न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अपनी मांगों को लेकर राजभवन के समक्ष पारा शिक्षकों का प्रदर्शन

स्थापना दिवस के दिन पारा शिक्षकों का होगा ‘घेरा डालो-डेरा डालो’ कार्यक्रम

729

Ranchi: अपनी मांगों को लेकर पारा शिक्षकों का चरणबद्ध आंदोलन जारी है. सोमवार को एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के बैनर तले राजभवन के समक्ष धरना दिया जा रहा है,जिसमें पलामू प्रमंडल के पारा शिक्षक शामिल हुए है. वही मंगलवार को दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के पारा शिक्षक उपस्थित होंगे, जबकि 31 अक्टूबर संथाल प्रमंडल के पारा शिक्षक और 1 नवंबर को उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के पारा शिक्षक धरना देंगे. वही 2 नवंबर को कोल्हान प्रमंडल के पारा शिक्षक राजभवन के समक्ष प्रदर्शन करेंगे.

इसे भी पढ़ें: न्यूज विंग खास : झारखंड कैडर के 50-59 साल पार हैं 67 आईएएस, 27 साल की किरण सत्यार्थी हैं सबसे यंग IAS

पारा शिक्षकों का आरोप है कि राज्य सरकार ने उच्च स्तरीय कमेटी के नाम पर छलने का फिर से एक बार काम किया है. जिससे बाध्य होकर पारा शिक्षक आर-पार की लड़ाई लड़ने के लिए आंदोलन का बिगूल बजा चुके हैं. इसी के तहत सोमवार को हजारों के संख्या में पारा शिक्षकों ने आंदोलन किया.

hosp3

15 नवंबर को होगा उग्र आंदोलन- संघ

एकीकृत पारा शिक्षक संघ के बजरंग प्रसाद ने बताया कि सरकार अगर पारा शिक्षकों की मांगों को नहीं मानती है, तो 15 नवंबर यानी स्थापना दिवस के दिन पारा शिक्षक उग्र आंदोलन करेंगे. और सड़क से लेकर विधानसभा तक अपने प्रदर्शन को जारी रखेंगे. पारा शिक्षक संघ ने सरकार को आगाह किया है कि अगर उनकी मांगों को समय रहते नहीं मानती है तो इस बार पारा शिक्षक पूरी तरह से आर-पार की लड़ाई के मूड में है. पारा शिक्षक ‘घेरा डालो-डेरा डालो’ के तहत पूरे राज्य में प्रदर्शन करेंगे. साथ ही रांची के प्रमुख स्थानों जैसे मुख्यमंत्री निवास विधानसभा सचिवालय आदि स्थानों पर भी प्रदर्शन करेंगे.

इसे भी पढ़ेंःदिवाली में 10 बजे रात के बाद पटाखा जलाया तो एक लाख रुपये का लगेगा जुर्माना 

ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ की तर्ज पर सेवा स्थाई करने की मांग एवं टेट पास पारा शिक्षकों को सहायक शिक्षक के पद पर सीधी नियुक्ति की मांग को लेकर पारा शिक्षक आंदोलनरत हैं. लेकिन सरकार पारा शिक्षकों के प्रति गंभीर नहीं दिखी. पांच दिवसीय राजभवन के समक्ष धरना देकर राज्य सरकार को फिर से जगाने का काम किया जा रहा है. अगर इससे भी सरकार हमारी मांगों पर विचार नहीं करती है तो 15 नवंबर को राज्य के 67 हजार पारा शिक्षक मोरहाबादी मैदान पर उपस्थित होंगे. अगर मुख्यमंत्री मांगों पर घोषणा नहीं करते हैं तो काला झंडा दिखाते हुए विरोध किया जाएगा. 16 नवंबर से ‘घेरा डालो-डेरा डालो’ कार्यक्रम रांची में किया जाएगा इसकी जवाबदेही सरकार की होगी.

इसे भी पढ़ेंःरांची के इलाहाबाद बैंक से संयुक्त निदेशक राजीव सिंह के भाई ने फरजी दस्तावेज पर लिया कर्ज

राजभवन के पास वाहनों का जमावड़ा

प्रदर्शन के कारण गाड़ियों की लम्बी कतार

पारा शिक्षकों के आंदोलन के कारण राजभवन के पास वाहनों का भारी संख्या में जमावड़ा लग गया है. राजभवन परिसर के अगल-बगल बड़ी संख्या में वाहनों के लगने से जाम जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है. इसके कारण रातू रोड, कांके रोड, एवं राम मार्ग आदि पूरी तरह से जाम हो गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: