न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेपीएससी पीटी के पुर्नसंशोधित रिजल्ट का विरोध शुरू, गोलबंद हो रहे हैं छात्र संगठन

3,099

Ranchi : झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) द्वारा जारी छठी जेपीएससी पीटी के पुर्नसंशोधित रिजल्ट का विरोध शुरू हो गया है. राज्य के कई छात्र संगठनों इसको लेकर गोलबंद होना शुरू कर दिया है. छात्र संगठनों का आरोप है कि लंबे इंतजार के बाद इस तरह से आयोग द्वारा पीटी का रिजल्ट जारी करना कहीं न कहीं राज्य के बाहरी लोगों को लाभ पहुंचाने की ओर इशारा कर रहा है. आदिवासी युवा मोर्चा के सुशील उरांव ने कहा कि पिछली बार पीटी में 206 अंक लानेवाले पास कर दिये गये,  जबकि 232 अंक लानेवाले फेल कर दिये गये. इस मामले को लेकर छात्र उग्र हो गये और लगातार आंदोलन करते रहे. हालांकि, जेपीएससी की दलील थी कि रिजर्वेशन की कैटेगरी के हिसाब से कटऑफ मार्क्स तय किया गया था. छात्रों के लगातार विरोध के बाद सरकार एवं आयोग ने आरक्षण रोस्टर में बदलाव करते हुए तीसरी बार संशोधित रिजल्ट जारी किया. पुर्नसंशोधित रिजल्ट में आरक्षण वर्ग के अभ्यर्थियों का ध्यान न रखकर बहारी लोगों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से न्यूनतम कटऑफ पर रिजल्ट प्रकाशित किया गया.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- चिकनगुनिया ने हिंदपीढ़ी थाना पर भी बोला हमला, सभी पुलिसकर्मी आये चपेट में

बाहरी लोगों को नौकरी देने की हो रही साजिश : शशि पन्ना

आदिवासी युवा मोर्चा के अध्यक्ष शशि पन्ना ने कहा कि झारखंड ही एकमात्र राज्य है, जहां जेपीएससी सिर्फ परीक्षा लेता है और रिजल्ट राज्य सरकार जारी करती है. कुल 326 पद के लिए छठी जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा (पीटी) हुई थी और नियम के मुताबिक कुल सीट का 15 गुणा रिजल्ट मुख्य परीक्षा के लिए जारी होता है, लेकिन झारखंड में 123 गुणा रिजल्ट जारी हो गया. पीटी में 70 हजार अभ्यर्थी शामिल हुए, इनमें से लगभग 40 हजार को मुख्य परीक्षा के लिए सफल घोषित कर दिया गया. इससे स्पष्ट होता है कि सरकार और आयोग के अधिकारी राज्य के बहारी लोगों को एक साजिश के तहत नौकरी देने का काम रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- फर्जी नक्सली सरेंडर मामले में हाई कोर्ट सख्त, गृह सचिव तलब, अगली सुनवाई 6 सितंबर को

ये हैं छात्र संगठनों की मांगें

  • आरक्षण की नियमावली का पालन करते हुए कोटिवार 15 गुणा ही फ्रेश संशोधित रिजल्ट निकाला जाये.
  • संशोधित रिजल्ट में राज्य के स्थानीय छात्रों को महत्व दिया जाये.
  • किसी भी शर्त पर 40 हजार रिजल्ट आयोग की तरफ से गलत है. उसको वापस लिया जाये, ताकि मुख्य परीक्षा में राज्य के अधिक छात्र शामिल हो सकें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: