न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बूढ़े कंधों पर जंगल की सुरक्षा ! सभी रेंजर 50 साल पार, गुजर गये 29 साल- नहीं हुई बहाली

गजेटेड और नॉन गजेटेड के बीच झूल रहे रेंजर, अब तक नहीं बनी राज्य वन सेवा की नियमावली

225

Ranchi: झारखंड के जंगलों की सुरक्षा बूढ़े कंधों पर है. जंगलों की सुरक्षा में अहम भूमिका निभाने वाले रेंजर (वन क्षेत्र पदाधिकारी) अब रिटायरमेंट के कगार पर हैं. अधिकांश रिटायर भी कर गये. जो कार्यरत हैं वे सभी 50 साल की उम्र सीमा पार कर गये हैं. बता दें कि वर्ष 1989 में रेंजरों की नियुक्ति हुई थी. 29 साल गुजर जाने के बाद भी आज तक रेंजरों की बहाली नहीं हो पाई है. राज्य में रेंजर के 383 पद हैं इसमें 224 रेंजर कार्यरत हैं. कुल 159 पद रिक्त हैं. अब तक राज्य वन सेवा की नियमावली भी नहीं बन पाई है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई : एन इनसाइड स्टोरी

गजेटेड और नॉन गजेटेड के बीच झूल रहे

राज्य के रेंजर गजेटेड और नॉन गजेटेड के बीच झूल रहे हैं. वे राजपत्रित हैं या अराजपत्रित इसकी व्याख्या अब तक सरकार नहीं कर पाई है. हाईकोर्ट के आदेश के आलोक में वन विभाग के अपर मुख्य सचिव ने रेंजर के स्टेट्स और राज्य वन सेवा नियमावली बनाने की समीक्षा की थी. फिर इसकी समीक्षा कार्मिक विभाग ने की. कार्मिक विभाग ने समीक्षा में पाया कि 2016 के रूल के अनुसार रेंजर राज्य सेवा के हकदार हैं. लेकिन विभाग ने इस पर अब तक आगे की कार्रवाई नहीं की है.

पहले खत्म हो चुके हैं रेंजर के 63 पद

स्टेट ट्रेडिंग (वन निगम में राजकीय व्यापार) बंद होने के कारण रेंजरों के 63 पद पहले की खत्म हो चुके हैं. इसके अलावा सहायक वन संरक्षक (एसीएफ), आरओएफ, फॉरेस्टर, रेंज क्लर्क और फोर्थ ग्रेड के 680 पद समाप्त हो चुके हैं. इससे पौधारोपण, जंगलों की सुरक्षा, चेक डैम निर्माण और हरियालीकरण योजना पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंःआजसू सुप्रीमो सुदेश महतो के करीबी रहे दीपक वर्मा पर विभागीय कार्रवाई शुरू

वनपाल के भी 752 पद रिक्त

राज्य में वनपाल के भी 752 पद रिक्त हैं. वन विभाग में वनपाल के 1062 पद सृजित हैं. इसमें 310 पदों पर ही वनपाल कार्यरत हैं. वहीं आइएफएस की संख्या में वृद्धि की गई है. सरकार ने अब तक वनपाल और रेंजरों की नियुक्ति के लिये कोई भी प्रक्रिया शुरू नहीं की है.

क्या कहते हैं रेंजर एसोसिएशन के लीगल सेल प्रभारी

रेंजर एसोसिएशन के लीगल सेल प्रभारी अनिल कुमार ने कहा है कि वन विभाग की हठधर्मिता के कारण रेंजरों का स्टेट्स अब तक तय नहीं हो पाया है. राज्य वन सेवा की नियमावली भी अब तक नहीं बनी है. जो रेंजर बचे हैं सभी की उम्र सीमा 50 के पार कर गई है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: