Lead NewsNationalNEWSTOP SLIDER

कोरोना की तीसरी लहर से बचाव, राज्यों को 3T+V फॉर्मूला अपनाने का निर्देश

New DELHI: देश में कोरोना की लहर कम होने के साथ ही विभिन्न राज्यों में पाबंदियों ढील देने का सिलसिला जारी है. मगर, इस ढील की आड़ में लोग कोविड नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. इसे ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों के लिये निर्देश जारी किया है. जिसमें राज्यों को ‘3T+V’ फॉर्मूला अपनाने का निर्देश दिया गया है. केंद्र ने यह कदम तीसरी लहर से बचाव के लिये उठाया है.

 

केंद्र सरकार की ओर से ये निर्देश एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया की उस चेतावनी के बाद जारी किए गए हैं, जिसमें कोरोना की तीसरी लहर अगले 6 से 8 सप्ताह में दस्तक देने की बात कही गई है. शनिवार को गुलेरिया ने कहा कि अगर कोरोना से जुड़े गाइडलाइंन को फॉलो नहीं किया गया तो तीसरी लहर 6-8 हफ्तों में आ सकती है. उनका सुझाव है कि जब तक वैक्सीनेशन पूरा नहीं हो जाता तब तक कोरोना से बचाव में किसी तरह की उदासीनता न बरतें. मसलन, मास्क व शारीरिक दूरी का पालन हर हाल में करें.

advt

इसे भी पढ़ेंःदेश में 81 दिनों के बाद नये मरीजों की संख्या 60 हजार से कम, मृतकों की संख्या भी घटी

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने शनिवार को राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा. गृह सचिव ने पत्र में कहा, ”मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगा कि पांबदियों में छूट देने का फैसला जमीनी हकीकत के बारे में जानने के बाद लिया जाना चाहिए.

 

पत्र में तीसरी लहर की चेतावनी देते हुए कहा गया कि राज्य लॉकडाउन में ढील देते समय ‘3T+V’ फॉर्मूला यानी टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन फॉर्मूले का विशेष ध्यान रखें. पत्र में राज्यों को निर्देश दिए गए हैं कि वे कोरोना प्रोटोकॉल जैसे- मास्क पहनने, हाथ साफ करना, सामाजिक दूरी और बंद जगहों में वेंटिलेशन के ऊपर भी काम करने जैसे नियमों का सख्ती से पालन कराएं. इसके अलावा राज्यों से वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने को भी कहा है.

इसे भी पढ़ेंःCorona Update: झारखंड में थमी कोरना की दूसरी लहर, 135 संक्रमित मिले, सक्रिय मरीज 1639

केंद्र ने राज्यों को आगाह करते हुए कहा कि भले ही कोरोना संक्रमण के मामले घट रहे हैं, लेकिन इसकी वजह से जांच दर में गिरावट नहीं आनी चाहिए.च तीसरी लहर की चेतावनी को ध्यान में रखते हुए सक्रिय मामलों में जरा सी बढ़त या फिर संक्रमण दर बढ़ने जैसे शुरुआती संकेतों को लेकर सचेत रहें. अगर किसी छोटे इलाके में भी मामलों में वृद्धि होती नजर आ रही है, तो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी दिशानिर्देशों के आधार पर कदम उठाकर उसे स्थानीय स्तर पर ही सीमित किया जाए.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: