न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रचार, दुष्प्रचार और सीसीटीवी

208

Kanchan Sharma

आधुनिक दौर में मीडिया का सत्ताकेंद्रित चरित्र बेशर्मी के साथ सामने आया है. इसमें जब सोशल मीडिया के दुरूपयोग का तड़का लग जाए, तो स्थिति और भयावह हो जाती है. लेकिन सीसीटीवी को धन्यवाद, जिसने कई मामले में सच, प्रचार और दुष्प्रचार का फर्क सामने ला दिया है.

दिल्ली का चर्चित अंकित गर्ग मर्डर केस इसका एक महत्वपूर्ण उदाहरण है. मीडिया ने इसे हिंदू-मुस्लिम एंगल देने का भरपूर प्रयास किया. कहा गया कि मुस्लिम लड़की परिवार इसके पीछे है. बाद में सीसीटीवी में पाया गया कि आकाश नामक एक अन्य युवक इसके लिए दोषी है. यह सच सामने आने के बाद दुष्प्रचार करने वाले मीडिया के पास मुंह छिपाने के लिए कोई जगह नहीं थी.

इसे भी पढ़ेंःदेश की अर्थव्यवस्था पर मंडरा रहा चौतरफा संकट, IL&FS के बाद…

अब ताजा मामला मोहम्मद नामक बच्चे का है. मालवीय नगर के अज़ीम बेगमपुर का यह मामला मीडिया और सोशल मीडिया में तेजी से फैल गया. उदार पत्रकारिता, ट्विटर और फेसबुक के कई बड़े नाम इस पर टिप्पणी करते पाए गए. इसमें सांप्रदायिक एंगल देखा गया. कुछ लोगों ने दिल्ली सरकार और आप के दो विधायकों को लक्षित करना शुरू किया. ऐसे वीडियो चलाए गए, जिनमें आप विधायक सोमनाथ भारती और अमानतुल्ला खान को गलत ढंग से टारगेट किया गया.

कई वेब मीडिया पत्रिकाओं ने भी इसे सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया. अधकचरा जानकारियों में झूठ जोड़कर सोशल मीडिया के रणनीतिबाजों ने इसका अच्छी तरह से उपयोग किया. दिल्ली पुलिस पर राज्य सरकार का नियंत्रण नहीं. केंद्र सरकार को विधि व्यवस्था के संचालन का दायित्व है. इसके बावजूद आप सरकार को इस मामले में समुचित कदम नहीं उठाने संबंधी दुष्प्रचार भी किया गया.

इसे भी पढ़ेंःपीएम मोदी का लेखः ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ भारतवासियों के दिलों…

लेकिन दिलचस्प मोड़ तब आया, जब इस वारदात के सीसीटीवी फुटेज सामने आए. पता चला कि यह केवल आपसी लड़ाई थी. दोनों समूहों में बकझक हुई. कुछ समय बाद मदरसा के समूह ने दूसरे समूह पर घूसों से हमला शुरू किया. यह बच्चा अज़ीम सबसे आक्रामक था. उसे वहां खड़ी बाइक पर फेंक दिया गया. उसका सिर बाइक पर टकराने के कारण दुखद मौत हो गई. सीसीटीवी में दिखा कि इसके बाद एक व्यक्ति ने आकर उसे उठाया रहा है और बस्ती की ओर दौड़ गया. दुखद है ​​कि बच्चों की लड़ाई भी हिंदू-मुसलमान के रूप में ब्रांडेड कर दी गई.

लेकिन सीसीटीवी को धन्यवाद. सीसीटीवी किसी अपराध को रोक नहीं सकता है, लेकिन सच बता सकता है, अफवाह रोक सकता है. फ़िलहाल दिल्ली की स्थिति कुछ खास है. आम आदमी पार्टी ने विकास के एजेंडे को सामने रखा है. इससे मुकाबले के लिए सांप्रदायिक अफवाहों की प्रबल संभावना है. लिहाजा, अधिक से अधिक सार्वजनिक स्थानों पर सीसीटीवी लगाना सार्थक होगा.

इसे भी पढ़ेंःभाजपा ना सिर्फ खुलकर कर रही सेलेक्टिव राजनीति बल्कि बना रही इसका माहौल

दिलचस्प है कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने सीसीटीवी की महत्वाकांक्षी योजना बना रखी है. लेकिन एलजी और बीजेपी द्वारा इसे बाधित करने की खबरें लगातार आती रही हैं. अब इन घटनाओं ने एक बार फिर सीसीटीवी की जरूरत प्रमाणित कर दी है.

लेखिका एक स्वतंत्र पत्रकार है और दिल्ली में रहती हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: