न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पांच सौ में सिर्फ 30 शिक्षकों को मिली प्रोन्नति, जेपीएससी ने कहा, 90 प्रतिशत  शिक्षकों को दे दी  प्रोन्नति  

राज्य में 2008 के बाद से यूनिवर्सिटी शिक्षक प्रोन्नति नियमावली नहीं है

97

Ranchi :  राज्य में यूनिवर्सिटी शिक्षक अपनी प्रोन्नति की मांग को लेकर काफी परेशान है. लंबे समय से इस संबध में यूनिवर्सिटी शिक्षकों की ओर से आंदोलन  किया जा रहा है. विगत दिनों झारखंड लोक सेवा आयोग की ओर से राजभवन में जानकारी दी गयी कि राज्य के 90 प्रतिशत शिक्षकों को प्रोन्नति दे दी गयी है. राज्य में पांच हजार के लगभग शिक्षक हैं,  जिनकी प्रोन्नति लंबे समय से लंबित है.

इनमें लगभग पांच सौ ऐसे शिक्षक है जो प्रोन्नति की सारी अर्हताएं पूरी करते है. जबकि 2008 के बाद से आयोग की ओर से मात्र 30 शिक्षकों को ही प्रोन्नति दी गयी. ऐसे में आयोग की ओर से राजभवन को 90 प्रतिशत शिक्षकों की प्रोन्नति की जानकारी दी गयी. जबकि सूत्रों से जानकारी मिली है कि राज्य के विश्वविद्यालयों की ओर से भी अर्हता पूरी करने वाले शिक्षकों के प्रोन्नति संबधी अनुशंसा आयोग को आधी अधूरी भेजी गयी है.

Sport House

इसे भी पढ़ेंः बीटेक कर भी बेरोजगार हैं छात्र, इंजीनियरिंग कॉलेजों में जॉब ओरिएंटेड न्यू एज कोर्स की जरूरत

2008 के बाद से राज्य में प्रोन्नति नियमावली नहीं

उच्च शिक्षा विभाग की ओर से 31 दिसंबर 2008 को अधिसूचना जारी की गयी थी. इस अधिसूचना के तहत राज्य के तत्कालीन यूनिवर्सिटी शिक्षक प्रोन्नति नियमावली को निरस्त कर दिया गया. इसके बाद से राज्य में अब तक प्रोन्नति नियमवाली नहीं बन पायी. हालांकि सूत्रों से यही जानकारी मिली है कि प्रोन्नति नियमावली में काम जारी है.

लेकिन पिछले दस सालों में यूनिवर्सिटी शिक्षक प्रोन्नति नियमावली नहीं बनी. जबकि इसी साल लगभग 350 यूनिवर्सिटी शिक्षकों की नियुक्ति राज्य में हुई थी. जो अब ग्यारह साल की नौकरी कर चुके हैं. नियमानुसार इन शिक्षकों को अब प्रोन्नति मिल जानी थी. लेकिन राज्य में ऐसा हुआ नहीं.

Related Posts

#TSP के तहत क्या होना चाहिए और क्या नहीं, झारखंड में इस पर कोई नियम नहीं

ट्राइबल सब प्लान पर राज्य सरकार की पहली कार्यशाला

Mayfair 2-1-2020

1998 से 2008 में प्रोन्नति संबधी अलग नियमावली थी

राज्य गठन के पूर्व यहां 1998 से 2008 तक के लिए नियमावली लागू की गयी थी. जानकारी मिली है कि यह नियमावली राज्य में 2008 में ही अधिसूचित की गयी. ऐसे में 1998 से अन्य शिक्षकों को भी प्रोन्नति नहीं दी गयी. और यह नियमावली 2008 में ही समाप्त हो गयी. इसकी जानकारी देते हुए झारखंड यूनिवर्सिटीज पीजी टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ हरिओम पांडेय ने कहा कि यह नियमावली भी अस्थायी रूप से लागू की गयी थी.

अगर आयोग की ओर से इस नियमावली के तहत प्रोन्नति दी जा रही है तो इसमें भी 90 प्रतिशत शिक्षक अर्हता पूरी नहीं करते है. दस प्रतिशत शिक्षक ही प्रोन्नति के योग्य है. उन्होंने कहा राजभवन से प्रोन्नति संबधी जानकारी मिलने के बाद राज्यपाल को वास्तविक स्थिति की जानकारी यूनिवर्सिटी शिक्षकों की ओर से दी गयी है.

समस्याओं का समाधान किया जा रहा है

इस संबध में जेपीएससी सचिव रणेंद्र कुमार ने कहा कि राज्य में यूनिवर्सिटी शिक्षकों की प्रोन्नति से  समस्याओं का समाधान किया जा रहा है. आयोग के समक्ष  जिन शिक्षकों की अनुशंसा की जा रही है , अर्हता के आधार पर प्रोन्नति दी जा रही है. प्रोन्नति प्रक्रिया चल रही है.

इसे भी पढ़ेंःBIT सिंदरी :  B Tech कर बिना प्लेसमेंट के निकल रहे आधे से ज्यादा स्टूडेंट्स

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like