JharkhandRamgarh

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत रामगढ़ में कार्यक्रम का आयोजन

Ramgarh: एक सितंबर से 30 सितंबर तक चल रहे राष्ट्रीय पोषण माह के तहत शुक्रवार को छत्तरमांडू स्थित टाउन हॉल में उपायुक्त रामगढ़ माधवी मिश्रा की अध्यक्षता में जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस दौरान उपायुक्त  माधवी मिश्रा, उप विकास आयुक्त  नागेंद्र कुमार सिन्हा, अनुमंडल पदाधिकारी मोहम्मद जावेद हुसैन सहित अन्य अतिथियों को पौधा देखकर उनका स्वागत किया गया जिसके उपरांत सभी ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. जिला स्तरीय राष्ट्रीय पोषण माह कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त माधवी मिश्रा ने कहा कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 1 सितंबर से 30 सितंबर तक पूरे देश में राष्ट्रीय पोषण माह मनाया जा रहा है जिसमे केंद्रीय, राज्य एवं जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है इसी क्रम में आज रामगढ़ जिले में राष्ट्रीय पोषण माह के तहत जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. इस दौरान उन्होंने परिसर में आंगनबाड़ी सेविकाओं द्वारा बनाई गई रंगोली व तेजस्विनी समूह की युवतियों द्वारा दी गई प्रस्तुतियों की सराहना करते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी. राष्ट्रीय पोषण माह के उद्देश्यों के प्रति सभी को जागरूक करते हुए उपायुक्त ने कहा कि पूरा देश कुपोषण मुक्त हो इसी उद्देश्य से पोषण माह मनाया जाता है जिला स्तर पर ग्रामीण क्षेत्रों में आंगनबाड़ी सेविकाओं व तेजस्विनी समूह की युवतियों का योगदान कुपोषण के चक्र को खत्म करने में बहुत महत्वपूर्ण है. उपायुक्त ने कहा कि वर्तमान में रामगढ़ जिले में गंभीर रूप से कुपोषित बच्चों की संख्या में कमी आई है जो कि दर्शाता है कि जिले में काफी अच्छा कार्य हुआ है लेकिन अभी भी काफी कार्य किया जाना बाकी है. कुपोषित बच्चों के इलाज हेतु जिले में तीन एमटीसी केंद्र संचालित हैं जिनके माध्यम से लगातार कुपोषित बच्चों का इलाज किया जा रहा है आप सभी का यह दायित्व है कि अगर आप अपने क्षेत्र में किसी भी गंभीर रूप से कुपोषित बच्चे को देखते हैं तो उसे नजदीकी एमटीसी केंद्र तक पहुंचाएं वही ग्रामीणों को खानपान में पोषक तत्वों को शामिल करने के प्रति भी जागरूक करें. कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, कन्यादान योजना सहित कई अन्य कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी सभी को दी एवं योजनाओं के माध्यम से ग्रामीणों को लाभ देने की अपील की. कार्यक्रम के दौरान उपयुक्त ने सभी आंगनवाड़ी सेविका एवं सहायिकाओं से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को लड़कों एवं लड़कियों में भेदभाव ना करने के प्रति जागरूक करने कि अपील की. इस संबंध में उन्होंने कहा कि जब हम लड़की के पोषण पर ध्यान नहीं देते हैं तो ना केवल हम उस लड़की के पोषण पर बल्कि आने वाली पीढ़ी के पोषण को भी कमजोर करते हैं इसलिए जब एक बच्ची कुपोषण मुक्त होगी तभी एक कुपोषण मुक्त माज का निर्माण होगा.

कार्यक्रम के दौरान कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में लॉन बॉल इवेंट में गोल्ड मेडल प्राप्त करने के लिए जिला खेल पदाधिकारी रूपा रानी तिर्की को उपायुक्त के द्वारा शॉल व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया.जिला स्तरीय कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने ग्रामीण क्षेत्रों से आई महिलाओं के 6 माह तक बच्चों का अन्नप्राशन, गर्भवती महिलाओं की गोद भराई, हस्ताक्षर अभियान, सेल्फी कैंपेन में भी हिस्सा लिया वहीं उन्होंने विभिन्न प्रखंडों द्वारा लगाए गए स्टॉल व बनाए गए रंगोली का निरीक्षण करते हुए उनकी सराहना कर ज्यादा से ज्यादा ग्रामीणों को भी इसके प्रति जागरूक करने का निर्देश दिया.

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत जिला स्तरीय कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने सभी को भारत के बच्चों, किशोरों और महिलाओं को कुपोषण मुक्त और मजबूत करने, राष्ट्रीय पोषण माह के दौरान हर घर तक सही पोषण का संदेश पहुंचाने, सही पोषण का अर्थ पौष्टिक आहार साफ पानी और सही प्रथाएं समझाने, पोषण अभियान को एक देशव्यापी जन आंदोलन बनाने, हर घर, हर विद्यालय, हर गांव, हर शहर में सही पोषण की गूंज उठाने की शपथ दिलाई.

कार्यक्रम के दौरान सिविल सर्जन, जिला कल्याण पदाधिकारी, कार्यपालक दंडाधिकारी सह जिला सामाजिक सुरक्षा शाखा, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, जिला खेल पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना पदाधिकारियों, महिला सुपरवाइजर, आंगनबाड़ी सेविकाओं सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें: खेलगांव में 10 सितम्बर से युवा कबड्डी की धूम,10 टीमों के 140 प्लेयर्स दिखाएंगे दमखम

Related Articles

Back to top button