न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची विवि में अनुबंध पर नियुक्त प्राध्यापकों को 11 महीने से नहीं मिला वेतन

क्रिसमस और नया साल भी रूखा-सूखा बीतने की उम्मीद

39

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय के अलग-अलग कॉलेजों और पीजी विभागों में जनवरी-2018 में अनुबंध पर प्राध्यापकों की नियुक्ति हुई थी. लेकिन, तब से अब तक उन्हें वेतन का भुगतान नहीं किया गया है. दीपावली बीतने के बाद अब क्रिसमस सामने है और इन प्राध्यापकों को इस बात की चिंता है कि उनकी दीपावली तो फीकी रही, अब क्रिसमस और नया साल कैसे मनायेंगे. कुलपति भी भरोसा पे भरोसा दिलाते रहे हैं कि शीघ्र राशि का भुगतान हो जायेगा, लेकिन अभी तक वेतन भुगतान नहीं हो पाया है.

चरणबद्ध आंदोलन शुरू करेगा अनुबंध प्राध्यापक संघ

झारखंड विश्वविद्यालय अनुबंध प्राध्यापक संघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. निरंजन कुमार महतो ने अनुबंध प्राध्यापकों के वेतन भुगतान नहीं होने पर आक्रोश व्यक्त किया है. डॉ. महतो ने बताया कि योगदान के समय से ही महीनों बाद भी उन्हें वेतन का भुगतान नहीं हुआ है. कुलपति से तत्काल वेतन भुगतान की मांग को लेकर कई बार उनसे मुलाकात की गयी. इस पर उन्होंने वेतन भुगतान सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कुलसचिव को विश्वविद्यालय के वित्त अधिकारी से इस मामले पर बात करने और जानकारी हासिल करने का आदेश दिया था. फिर इन प्राध्यापकों की मौजूदगी में रांची विवि के दोनों अधिकारियों की बात हुई थी. डॉ. महतो ने बताया कि वित्त अधिकारी ने कहा था कि वेतन राशि भुगतान की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. उन्होंने कहा था कि जिन-जिन पीजी विभागों एवं महाविद्यालय द्वारा बिल विश्वविद्यालय को भेजा जा चुका है, उन लोगों का वेतन भुगतान शीघ्र किया जायेगा. लेकिन, आज तक वेतन भुगतान की प्रक्रिया शुरू नहीं किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है. डॉ. महतो ने बताया कि जनवरी-2018 से कार्यरत प्राध्यापकों की आर्थिक स्थिति काफी दयनीय हो चली है. क्रिसमस और नया साल के मौके पर वेतन भुगतान नहीं होने से प्राध्यापकों में काफी रोष है. डॉ. महतो ने बताया कि विश्वविद्यालय प्रशासन के इस उदासीन रवैये के खिलाफ झारखंड विश्वविद्यालय अनुबंध प्राध्यापक संघ चरणबद्ध आंदोलन शुरू करेगा.

इसे भी पढ़ें- आइएफएस अफसरों की राष्ट्रपति से लेकर सीएम तक गुहार, पर नहीं सुधरा कैडर मैनेजमेंट

इसे भी पढ़ें- सीबीएसई ने जारी किये 10वीं और 12वीं की 2019 परीक्षा की तारीखें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: