National

एअर इंडिया-BPCL बेचे जाने के बयान पर प्रियंका का वार, कहा- सरकारी उपक्रमों को खोखला कर बेच रही सरकार

New Delhi: एअर इंडिया और बीपीसीएल को बेचने से जुड़े वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा.

प्रियंका ने आरोप लगाया कि यह सरकार बेहतरीन सरकारी उपक्रमों को खोखला कर उन्हें बेचने का काम कर रही है.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: आज रांची आयेंगे मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा, दो दिवसीय झारखंड दौरे पर होगी चुनाव आयोग की टीम

क्या कहा प्रियंका ने

प्रियंका ने एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए ट्वीट किया कि जहां डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, वो भारत देश है मेरा. हमारे संस्थान हमारी शान हैं. ये ही हमारी ‘सोने की चिड़िया’ हैं.

इसे भी पढ़ें- संसद के शीतकालीन सत्र का तीसरा दिन, राष्ट्रपति शासन पर रिपोर्ट पेश करेंगे शाह

प्रियंका ने दावा किया कि भाजपा ने वादा तो देश बनाने का किया था लेकिन काम भारत के बेहतरीन संस्थानों को खोखला कर उन्हें बेचने का कर रही है. यह दुखद है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एअर इंडिया-BPCL बेचने की कही थी बात

गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि सरकार मार्च 2020 तक देश की सरकारी एयरलाइन एअर इंडिया और तेल विपणन कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड को बेचने की प्रक्रिया पूरी कर लेगी. 

निर्मला सीतारमण का यह बयान ऐसे समय में आया है जब देश आर्थिक मंदी का सामना कर रहा है. और उस पर लगभग 58 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है. सरकार को इन दो कंपनियों को बेचने से सरकारी खजाने में इस वित्त वर्ष एक लाख करोड़ रुपये आने की उम्मीद है. 

इसे भी पढ़ें- #Maharastra: कांग्रेस-NCP की बैठक आज, राउत बोले-5-6 दिनों में बनायेंगे सरकार, किसानों के मुद्दे पर PM से मिलेंगे पवार

4600 करोड़ रुपए का ऑपरेटिंग नुकसान हो चुका है

एयर इंडिया को पिछले वित्त वर्ष में लगभग 4600 करोड़ रुपए का ऑपरेटिंग नुकसान हो चुका है. तेल की ऊंची कीमतों और विदेशी मुद्रा में गिरावट की वजह से ऐसा हुआ है. दूसरी ओर कर्ज से लदी मालवाहक कंपनियों के आला अफसरों के मुताबिक, 2019-20 में परिचालन में लाभ होने की आशा है.

गौरतलब है कि भारत पेट्रोलियम का कुल बाजार लगभग 1.02 लाख करोड़ रुपये का है. केंद्र सरकार इसकी 53 प्रतिशत की बिक्री के साथ, सरकार किसी भी प्रवेश प्रीमियम सहित लगभग 65,000 करोड़ रुपये की निकासी की उम्मीद कर रही है.

Related Articles

Back to top button