न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

99.2 प्रतिशत अंक के साथ प्रिया राज बनीं टॉपर, टॉप फाइव के सभी छात्रों को 98 प्रतिशत से अधिक नंबर

1,217

Ranchi: झारखंड एकेडमिक काउंसिल ने मैट्रिक का रिजल्ट जारी कर दिया है. इंदिरा गांधी आवासीय विद्यायल, हजारीबाग की प्रिया राज 99.2 प्रतिशत अंकों के साथ टॉपर बनी हैं.

mi banner add

वहीं दूसरे नंबर पर नेतरहाट आवासीय विद्यालय के अमरेश कुमार हैं, जिन्हें 99 प्रतिशत अंक मिले हैं. सबसे अच्छी बात यह है कि टॉप पांच में रहने वाले 7 छात्रों को 98 प्रतिशत से अधिक नंबर मिले हैं.

इसे भी पढ़ेंःमैट्रिक रिजल्ट जारी : 99.2 प्रतिशत अंक के साथ हजारीबाग की छात्रा ने किया टॉप

टॉप टेन में दो ही स्कूलों का दबदबा है. पांच छात्र नेतरहाट के हैं और पांच इंदिरा गांधी आवासीय विद्यालय, हजारीबाग की छात्राएं हैं. इसबार कुल 2,12,410 छात्रों में 1,55,054 पास हुए हैं.

छात्रों की सफलता दर 72.99 प्रतिशत है. छात्राओं की सफलता दर 68.67 प्रतिशत है. कुल 155104 छात्राएं पास हुई हैं.

पिछड़े जाति के बच्चों का परीक्षाफल सबसे बेहतर

Related Posts

ऑटो चालक हत्याकांड का 8 घंटे में उद्भेदन : छोटे भाई ने ही दी थी हत्या की सुपारी

पुलिस के अनुसार ऑटो ड्राइवर राजू की हत्या की सुपारी उसके ही सगे भाई संतोष कुमार ने रोहित तांती, राजा कुमार और सौरभ कुमार सहित दो अन्य लोगों को एक लाख रुपये में दी थी.

जातिवार रिजल्ट में पिछड़ी कैटेगरी के बच्चों का रिजल्ट सबसे बेहतर है. 74.42 प्रतिशत बच्चे पिछड़ी जाति के पास हुए हैं. वहीं अत्यंत पिछड़ी जाति के बच्चों की सफलता दर 73.42 प्रतिशत है.
जेनरल कैटेगरी के बच्चों की सफलता का दर 70.69 प्रतिशत रहा है.

इसे भी पढ़ेंःआरयू: 25 अप्रैल तक पीएचडी और एमफिल प्रवेश परीक्षा टाली गई इसके बाद भी तय नहीं हो पाई तारीख

जनरल कैटेगरी के 2लाख 29हजार 130 बच्चों ने परीक्षा दी थी, जिसमें 161981 बच्चों ने सफलता हासिल की है. एससी कैटेगरी के छात्रों का सफलता प्रतिशत 67.81 है. वहीं एसटी कैटेगरी के 42,967 बच्चे पास हुए हैं. सफलता दर 73.42 प्रतिशत है.

टॉप फाइव लिस्ट में शूमार सात छात्र

नामप्राप्त अंक (प्रतिशत में)
प्रिया राज99.2
अमरेश कुमार99
अमन कुमार98.40
गोपाल सिंह98.40
पल्लवी98.20
आर्या सिंह98.20
काजल कुमारी98.20
प्रतीक राज98.20

 

इसे भी पढ़ेंःगुमलाः 5 किमी पैदल चल पानी लाने को मजबूर आदिम जनजाति, खनन के कारण सूख रहे हैं झरने भी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: