JharkhandMain SliderRanchi

प्राइवेट प्रैक्टिस मामला : सिर्फ डॉ हेमंत नारायण ही नहीं, रिम्स के कई और डॉक्टरों के भी नाम शामिल हैं इस फेहरिस्त में

Ranchi : रिम्स के चिकित्सक सिर्फ रिम्स की कमाई से ही संतुष्ट नहीं हैं. ज्यादा कमाने की चाहत में चिकित्सक निजी प्रैक्टिस भी करते हैं. किसी ने फलां क्लिनिक से, तो किसी ने फलां अस्पताल से अपनी-अपनी सांठ-गांठ बना रखी है. चिकित्सक रिम्स में कम और निजी क्लिनिक में ज्यादा नजर आते हैं. जबकि, रिम्स में सभी चिकित्सकों को सुबह नौ बजे से दोपहर एक बजे तक और अपराह्न तीन से शाम पांच बजे तक ड्यूटी पर उपस्थित होना रहता है. लेकिन, ये चिकित्सक इस दौरान रिम्स में उपस्थित रहना अपनी जिम्मेदारी नहीं समझते. पैसों की भूख ने धरती के भगवान कहे जानेवाले इन चिकित्सकों को गैरजिम्मेदार बना दिया है.

इसे भी पढ़ें- रिम्स के डॉ हेमंत नारायण के घर और निजी क्लिनिक पर सर्वे करने पहुंची आयकर विभाग की टीम

रिम्स में मरीजों को देखने में दिलचस्पी नहीं दिखाते चिकित्सक

रिम्स में चिकित्सक मरीजों को देखने में दिलचस्पी नहीं दिखाते, लेकिन यही डॉक्टर निजी क्लिनिक में 500 से 1000 रुपये तक फीस लेकर बड़े चाव से मरीजों का इलाज करते हैं. रिम्स में इन्हीं चिकित्सकों को मरीजों का इलाज करने में सिरदर्द होने लगता है. इलाज तो दूर की बात है, मरीजों की रिपोर्ट तक देखने में रिम्स के चिकित्सक आनाकानी करते हैं और उन मरीजों के इलाज की जिम्मेदारी अपने जूनियरों पर थोप देते हैं.

advt

इसे भी पढ़ें- डॉ हेमंत नारायण का आईटी ने किया मोबाइल जब्त

रिम्स के कौन चिकित्सक कहां देखते हैं मरीज

  • हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. एलबी मांझी बरियातू स्थित लाइफ केयर अस्पताल में मरीजों को देखते हैं.
  • हड्डीरोग विशेषज्ञ डॉ गोविंद गुप्ता निरामया अस्पताल में समय देते हैं.
  • नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ राहुल, सर्जन डॉ शीतल मलुआ भी कोकर स्थित निरामया अस्पताल में मरीजों का इलाज करते हैं.
  • रेडियोलॉजी विभाग के एचओडी सुरेश टोप्पो आलम नर्सिंग होम में बैठते हैं.
  • यूरोलॉजिस्ट डॉ. अरशद जमाल बरियातू जोड़ा तालाब के पास स्थित लेक वियू नर्सिंग होम में समय देते हैं.
  • न्यूरो सर्जन सीबी सहाय भी अपने आवास पर मरीजों को बुलाते हैं.
  • स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. शशि बाला अंजुमन अपस्ताल में मरीजों का इलाज करती हैं.
  • इसके अलावा अन्य कई अस्पतालों में ये चिकित्सक ऑन कॉल मरीजों को देखने पहुंचते हैं. चिकित्सक कई बार रिम्स में मरीजों का इलाज करने के बाद उन्हें अपने आवास या निजी क्लिनिक पर आने की सलाह भी देते हैं.

इसे भी पढ़ें- न्यूजविंग स्टिंग : रिम्स के डॉ हेमंत नारायण के गार्ड मरीजों को कर रहे डायवर्ट

आईटी की टीम पहुंची थी डॉ. हेमंत नारायण के निजी क्लिनिक में

अभी तीन पहले ही रिम्स के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ हेमंत नारायण के निजी क्लिनिक में आईटी डिपार्टमेंट की टीम द्वारा सर्वे किया गया. इसमें यह पाया गया कि डॉ हेमंत सिर्फ रिम्स से मिलनेवाली सैलरी का ही रिर्टन फाइल करते हैं. जबकि, निजी प्रैटिक्स से भी उनकी आमदनी लाखों में होती है.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button