HazaribaghJharkhand

पुलिस की लापरवाही का लाभ उठा रहे कैदी, हजारीबाग में पुलिस की हिरासत से नाबालिग कैदी हुआ फरार

Hazaribagh: झारखंड पुलिस की लापरवाही का कैदी लगातार फायदा उठा रहे हैं. इस सप्ताह पुलिस की हिरासत से कैदी के भागने की दो घटनाएं सामने आ चुकी हैं. पहली घटना 2 जनवरी को घटी, जहां रांची में पुलिस की हिरासत से कैदी फरार हो गया तो वहीं सोमवार को हजारीबाग में सिविल कोर्ट परिसर से नाबालिग कैदी फरार हो गया.

आरोपी को हाजिरी के लिए कोर्ट लाया गया था. जहां कोर्ट परिसर में पुलिसकर्मी को धोखा देकर वो फरार हो गया. पिछले 11 महीने के दौरान झारखंड पुलिस की हिरासत से कैदियों के भागने की 15 घटनाएं सामने आ चुकी हैं.

फरार होनेवाले कैदी पर है दुष्कर्म का आरोप

फरार होनेवाले नाबालिग कैदी पर दुष्कर्म का आरोप है और वह करीब डेढ़ साल से बाल सुधार गृह में था. कैदी के फरार होने के बाद सिविल कोर्ट परिसर में पुलिस गहन जांच कर रही है, लेकिन घंटों बीत जाने के बाद भी फरार कैदी गिरफ्त में नहीं आया है. आरोपी कटकमदाग थाना क्षेत्र रहनेवाला है.

advt

इसे भी पढ़ें – #Chaibasa सदर अस्पताल में बच्ची को भोजन में केवल भात देने पर सीएम ने लिया संज्ञान, दोषी निलंबित

सुरक्षा पर सवालिया निशान लग रहे

पुलिस अपनी करनी से खुद अपना मजाक बनवा रही है. पिछले 11 माह में पुलिस की गिरफ्त से 14 अपराधियों के भागने से आम लोग दंग हैं और सुरक्षा पर सवालिया निशान लगा रहे हैं.

सवाल उठा रहे हैं कि आखिर पुलिस इतनी गैर जिम्मेदार कैसे हो सकती है. पुलिस की कार्यशैली देख कर तो यही लगता है कि राज्य में चोर-सिपाही का खेल चल रहा है.

पुलिस पहले अपराधी को पकड़ती है और फिर भगाती है. इसके बाद दोबारा पूरा पुलिस महकमा जाल बिछाने में लग जाता है, जिसके बाद फरार कैदी को पकड़ा जाता है.

adv

इसे भी पढ़ें – ढुल्लू महतो के शपथ लेने पर बोलीं यौन शोषण पीड़िता: यह लोकतंत्र के मंदिर का अपमान

पुलिस की कार्यशैली पर उठते हैं सवाल

कोर्ट परिसर, पुलिस थानों और अस्पतालों के जेल वार्डों से अपराधियों की फरारी जहां संबंधित अधिकारियों की कार्यशैली पर प्रश्रचिन्ह लगाती है, वहीं पुलिस हिरासत से अपराधियों का फरार होना सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा भी है.

ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस को सतर्क रहना होगा. पुलिस के हिरासत से अपराधियों के भागने की जितनी भी घटना हुई है उनमें से अधिकतर मामले में पुलिस की लापरवाही सामने आयी है. जिसका फायदा उठा कर पुलिस की हिरासत से अपराधी भागने में सफल रहते हैं.

इसे भी पढ़ें – #JNU_Violence: जेएनयू में मरघटी शांति, सुरक्षा बलों की भारी तैनाती, छात्रों में डर का माहौल, कहा घर लौट जायेंगे

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button