Education & CareerJharkhandRanchi

डीईओ के आदेश पर ही प्राचार्यों ने दिया वेतन, अब उन्हीं से मांगा जा रहा जवाब

Ranchi: रांची जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार सिन्हा ने जिले के 11 हाइस्कूलों के प्राचार्य को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. इस कारण बताओ नोटिस की वजह है स्कूलों में स्वीकृत पद के अतिरिक्त पद पर कार्यरत शिक्षकों के वेतन का भुगतान प्राचार्यों की ओर से किया जाना.

जिला शिक्षा पदाधिकारी की ओर से प्राचार्यों को भेजे गये नोटिस में स्पष्ट कहा गया है कि क्यों नहीं अतिरिक्त वेतन की वसूली आपके वेतन से की जाये.

इसे भी पढ़ें – देवघर के पालोजोरी प्रखंड के BDO की संदिग्ध हालत में मिली लाश, जमशेदपुर में रेलवे ट्रैक पर मिला शव

क्या है मामला

दरअसल रांची जिला अंतर्गत 11 स्कूलों ने ऐसे शिक्षकों का वेतन भुगतान कर दिया, जिनका पद विद्यालय में स्वीकृत ही नहीं था. संबंधित स्कूल के प्राचार्य की ओर से सालों से वेतन भुगतान किया गया. इस बात की जानकारी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भी नहीं थी.

जब तक इसकी सूचना पदाधिकारियों को लगती, तब तक लाखों रुपये इन शिक्षकों के खाते में जा चुके थे. मामला प्रकाश में आने के बाद रांची जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार सिन्हा ने इन सभी विद्यालयों के प्रधानाध्यापक को शोकॉज किया है. जल्द से जल्द उन्हें स्पष्टीकरण का जवाब देने का निर्देश भी दिया है.

उन्होंने स्पष्ट रूप से लिखा है कि वेतन के रूप में दी गयी राशि आपके वेतन से क्यों न वसूल करते हुए आप कर विभागीय कार्रवाई की जाये.

इन स्कूलों के प्राचार्य को भेजा गया है नोटिस

मारवाड़ी उच्च विद्यालय रांची, गौरी दत्त मंडेलिया उच्च विद्यालय रांची, बालकृष्ण उच्च विद्यालय रांची,  राजकीय उच्च विद्यालय पिस्का नगड़ी, टीयूएसएसवी उच्च विद्यालय ओरमांझी,  प्रोजेक्ट उच्च विद्यालय टांगरबसली, प्रो बा उच्च विद्यालय तमाड़, उत्क्रमित उच्च विद्यालय सोस, चान्हो, उत्क्रमित विद्यालय टेरो बेड़ो, उत्क्रमित उच्च विद्यालय लापुंग और उत्क्रमित उच्च विद्यालय सिल्ली.

इसे भी पढ़ें – सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट जारी, 1059080 स्टूडेंट्स को मिली कामयाबी, पहले नंबर पर त्रिवेंद्रम जोन

डीईओ के आदेश पर ही हुआ वेतन भुगतान

जिला शिक्षा पदाधिकारी की ओर से जिन स्कूलों को नोटिस भेजा गया है, उनके प्राचार्यों का कहना है कि इस बात की जानकारी जिला शिक्षा पदाधिकारी को है. उन्हीं के आदेश से शिक्षकों को वेतन भुगतान किया गया है.

शहर के एक स्कूल के प्राचार्य ने बताया कि पूर्व में भी किसी विषय के शिक्षक होने के बाद भी उसी विषय के शिक्षक की नियुक्ति होने पर रिक्त पद पर समायोजित कर वेतन दिया जाता रहा है.

वहीं मारवाड़ी हाईस्कूल के प्राचार्य ब्रजकिशोर प्रसाद ने बताया कि हमारे यहां इकोनोमिक्स विषय के अतिरिक्त शिक्षक की नियुक्ति हुई है. नियुक्ति के दौरान भी हमने पत्र लिखकर विभागीय अधिकार सहित जिला शिक्षा पदाधिकारी को बताया कि हमारे यहां इकोनोमिक्स विषय के शिक्षक का पद खाली नहीं है. 19 फरवरी 2020 को जिला शिक्षा पदाधिकारी को पत्र लिखकर नियुक्ति के बाद वेतन भुगतान की अनुमति मांगी गयी. जिसके बाद 3 मार्च 2020 को जिला शिक्षा पदाधिकारी का आदेश आने के बाद वेतन भुगतान किया गया है.

विभिन्न स्कूलों के प्राचार्यों ने बताया कि नियुक्ति के समय ही हमने विभाग सहित जिला शिक्षा पदाधिकारी से राय मांगी थी.

इसे भी पढ़ें – सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी  के खिलाफ जमीन खरीद मामले में PIL , सक्षम एजेंसी से जांच की मांग

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close