न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया IPPB का ऑनलाइन उद्घाटन

153

Dhanbad :  शनिवार से देश के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले गरीब और पिछड़े भी डाकियों के जरिए बैंकिंग सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे. यह संभव होगा इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक से, जिसका शनिवार को 650 शाखाओं और 3250 एक्सेस प्वाइंट के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों उद्घाटन हुआ. इसके साथ ही धनबाद के टाउन हॉल में भी  इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक का शुभारंभ धनबाद सांसद पीएन सिंह, आईआईटी आइएसएम के निदेशक प्रो राजीव शेखर, इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के प्रभारी सह अधीक्षक धनबाद पोस्ट आफिस बीपी श्रीवास्तव ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया.

इसे भी पढ़ें- राज्य में 1538 स्वास्थ्य केंद्र जिसमें 1015 निर्माणाधीन, जनता कैसे रहेगी तंदरुस्त

आइपीपीबी का मूलमंत्र ‘आपका बैंक, आपके द्वार’

इससे पहले एक रोड शो के माध्यम से भी लोगों को इस सुविधा की जानकारी दी गयी. रैली रणधीर वर्मा चौक होते हुए धनबाद टाउन हॉल पंहुची थी. शुभारंभ के बाद प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा किये गए राष्‍ट्रव्यापी शुभारंभ का सीधा प्रसारण भी प्रोजेक्टर के माध्यम से दिखाया गया. धनबाद सांसद ने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक अर्थात आइपीपीबी की सेवाएं दूसरी बैंकिंग सेवाओं से किस प्रकार भिन्न है. आइपीपीबी उन गांवों तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचाएगा जहां सामान्य बैंकों की पहुंच नहीं है. आइपीपीबी का मूलमंत्र ‘आपका बैंक, आपके द्वार’ है. जिसमें ग्राहक को बैंक शाखा जाने की जरूरत नहीं होगी. बैंक डाकियों के मार्फत खुद ग्राहक तक पहुंचेगा. इसके तहत बचत खाता, चालू खाता, मनी ट्रांसफर तथा प्रत्यक्ष लाभांतरण के अलावा बिल, यूटिलिटी एवं व्यापारिक भुगतान जैसी अनेक सेवाएं प्राप्त होंगी. जिसका लाभ मात्र अंगूठा लगाके सभी वर्ग के लोग लाभ उठा पाएंगे.

इसे भी पढ़ें- शौचालय नहीं बनने पर ग्रामीणों ने लोटा लेकर किया विरोध

सबसे आसान, किफायती तथा भरोसेमंद बैंक

निदेशक आईआईटी आइएसएम राजीव शेखर ने कहा कि यह देश का सबसे आसान, किफायती तथा भरोसेमंद बैंक होगा. अनपढ़ से अनपढ़ व्यक्ति भी इस प्रणाली का उपयोग कर सकता है. प्रभारी बीपी श्रीवास्तव ने बताया कि इस सुविधा को 17 करोड़ डाकघर बचत खातों से जोड़ा गया है. कोई भी नागरिक निशुल्क खाता खोलकर इस सुविधा का लाभ उठा पाएंगे. पैसा जमा करने या भेजने के लिए क्यूआर कार्ड को पीओएस मशीन में डालने के बाद अंगुली रखनी होगी. 31 दिसंबर तक देश के सभी 1.55 लाख डाकघर आइपीपीबी के एक्सेस प्वाइंट के रूप में काम करने लगेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: