Main SliderNational

संयुक्त राष्ट्र संघ की असेंबली को आज संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी, पाकिस्तान को देंगे जवाब

विज्ञापन

New Delhi : संयुक्त राष्ट्र संघ की जनरल असेंबली में शुक्रवार (25 सितंबर) को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के खिलाफ जहर उगला था. वीडियो कांफ्रेंसिंग से चल रही इस असेंबली में इमरान खान ने एक बार फिर से कश्मीर का मुद्दा उठाया. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी टिप्पणी की. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असेंबली में अपना वक्तव्य देंगे. माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री के संबोधन में पाकिस्तान को करारा जवाब मिलेगा.

इसे भी पढ़ें :Bihar Election 2020: बोले नीतीश- बिहार की जनता दोबारा मौका देगी तो पूरा करेंगे सात निश्चय 2

आतंकवाद, कोरोना सहित अन्य मुद्दों पर रख सकते हैं बात

बता दें कि आज प्रधानमंत्री का संबोधन शाम में करीब 6.30 बजे संबोधित करेंगे. इसमें वर्तमान परिप्रेक्ष्य में विश्व के प्रति भारत के दृष्टिकोण को रखा जायेगा. इसके अलावा प्रधानमंत्री आतंक का मुद्दा को भी उठा सकते हैं. चीन के साथ वर्तमान हालात और कोरोना वायरस की महामारी पर भी वे बात रख सकते हैं. इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र में सुधार का भी मुद्दा है.

advt

इमरान खान ने कश्मीर का मुद्दा उठाया था

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान कश्मीर का मुद्दा उठाया इस दौरान भारत के प्रतिनिधि ने वॉकआउट किय़ा. संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि इमरान के बयान पर भारत राइट टू रिप्लाई का उपयोग कर जवाब देगा.

तिरुमूर्ति ने अपने ट्वीट में पाकिस्तान को आतंकवाद, अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न को लेकर भी घेरा. संयुक्त राष्ट्र मिशन में भारत के फर्स्ट सेक्रेटरी सेंथिल कुमार ने पाकिस्तान को आतंकवाद की नर्सरी और एपिसेंटर बताया है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमारे देश के खिलाफ हर अवसर का इस्तेमाल ऐसे अनर्गल आरोप लगाने के लिए करता है. इससे उसकी नकारात्मकता झलकती है.

इसे भी पढें :नये एसओआर बनने तक 2018 के निर्धारित दर पर ही जारी होगा टेंडर और भुगतान

पाकिस्तान कर रहा नकारात्मक प्रचार

सेंथिल ने पाकिस्तान को दूसरों पर उंगली उठाने से पहले यह सोचने की नसीहत दी कि आतंक मानवाधिकारों के उल्लंघन का ही विकृत रूप है और यह मानवता के खिलाफ अपराध है. दुनिया को उस देश से मानवाधिकारों का पाठ नहीं पढ़ना, जिसे आतंक की नर्सरी और एपिसेंटर के तौर पर जाना जाता है. पाक अधिकृत कश्मीर, गिलगित बाल्टिस्तान में लगातार मानवाधिकार उल्लंघन की घटनाएं हो रही हैं . पाकिस्तान पिछले कुछ समय से हर अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत के खिलाफ नकारात्मक प्रचार करता रहा है. हालांकि इसके बावजूद विश्व बिरादरी में उसकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया जाता. एक बार फिर से लोगों कि निगाहें प्रधानमंत्री के संबोधन पर होगी.

adv

इसे भी पढ़ें :कृषि बिल पर सीएम का हमला: कहा- इस विधेयक से आत्महत्या के लिए मजबूर होंगे किसान, नए महाजन देंगे दस्तक

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button