न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्राथमिक शिक्षक संघ ने काला बिल्ला लगा कर जताया विरोध

54

Ranchi : अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ प्रदेश कार्यसमिति के आह्वान पर बुधवार काला बिला लगा कर काम किया. अपनी 13 सूत्री मांगों और पारा शिक्षकों पर दमनात्मक कार्रवाई के विरोध में राज्य के 58  हजार प्राथमिक व मध्य विद्यालय के शिक्षकों ने सरकार के हिटलरशाही रवैय के खिलाफ काला बिल्ला लगा कर विरोध में पठन पाठन का कार्य किया.

कमर में रस्‍सी बांध कर शिक्षकों को अपमानित कर रही है सरकार

संघ के प्रदेश अध्यक्ष बिजेंद्र चौबे, महासचिव राममूर्ति ठाकुर व मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने कहा कि संघ द्वारा वर्तमान व्यवस्था और शिक्षकों की समस्याओं के समाधान के प्रति सरकार उदासीन रवैया अपना रही है. झारखंड सरकार द्वारा सदियों से स्थापित भारतीय गौरवशाली संस्कृति पर निर्मम प्रहार किया जा रहा. सरकार शिक्षकों को लोकतांत्रिक और संवैधानिक अभिव्यक्ति के अधिकार पर जबरन लाठियां बरसा रही है. उन्हें कमर में रस्सा बांधकर अपमानित किया जा रहा. सरकार के मुख्य सचिव द्वारा 1  माह में समाधान की घोषणा के 3 माह बाद भी समस्याओं का ज्यों का त्यों रहना सरकार की मंशा को दर्शाती है.

विरोध प्रदर्शन में ये लोग थे मौजूद

Related Posts

100 रुपये में #IAS बनाता है #UPSC, #Jharkhand में क्लर्क बनाने के लिए वसूले जा रहे एक हजार

झारखंड में बनना है क्लर्क तो आइएएस की परीक्षा से 10 गुणा ज्यादा देनी होगी परीक्षा फीस.

कार्यक्रम को सफल बनाने में सुनील कुमार, असदुल्ला, अनूप केशरी, दीपक दत्ता, संतोष कुमार, हरेकृष्ण चौधरी, राकेश कुमार, अनिल खलखो,  सलीम सहाय, कृष्णा शर्मा, अजय ज्ञानी, सुनील कुमार, संजय साहू, देवी प्रसाद मुखर्जी, अनिल कुमार सिंह, उपेंद्र कुमार,  देवेंद्र प्रसाद तिवारी, श्री कांत सिन्हा, अजय कुमार सिंह, प्रभात कुमार, अवदेश कुमार, बाल्‍मिकी कुमार, अमित कुमार, प्रकाश कुमार के अलावा प्रमंडल अध्यक्ष महासचिव, जिला अध्यक्ष महासचिव, प्रखंड अध्यक्ष महासचिव आदि शामिल थे.

इसे भी पढ़ें- कोलेबिरा उपचुनावः मेनन एक्का को मिला गुरुजी का आशीर्वाद

इसे भी पढ़ें- जल संसाधन विभाग का हाल : दिलाना था मुख्य अभियंता का प्रभार तो बदल दिये गये 209 इंजीनियर्स

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: