न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट : #Enforcement_Directorate ने ICICI बैंक की पूर्व CEO चंदा कोचर की करोड़ों की संपत्ति अटैच  की

चंदा कोचर के खिलाफ ED की कार्रवाई 2012 में आईसीआईसीआई बैंक से विडियोकॉन को मिले 3,250 करोड़ रुपये के लोन मामले के सिलसिले में की गयी है.

66

Mumbai : ICICI बैंक की पूर्व सीईओ और एमडी चंदा कोचर और उनके परिवार पर प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने बड़ी कार्रवाई की है. खबर है कि ईडी ने चंदा कोचर के मुंबई स्थित फ्लैट और उनके पति दीपक कोचर की कंपनी की कुछ संपत्तियों को अटैच किया है.

जब्त संपत्तियों का कुल मूल्य 78 करोड़ रुपये बताया जा रहा है. जान लें कि चंदा कोचर के खिलाफ ED की कार्रवाई 2012 में आईसीआईसीआई बैंक से विडियोकॉन को मिले 3,250 करोड़ रुपये के लोन मामले के सिलसिले में की गयी है.

Sport House

इसे भी पढ़ें :  #100_Retired_Bureaucrats ने पत्र लिखा, भारत को NPR, CAA की जरूरत नहीं,  हमें गंभीर आपत्ति

मनी लांड्रिग मामले में चंदा कोचर, दीपक कोचर के खिलाफ जांच

अधिकारियों ने शुक्रवार को जानकारी दी कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट (PMLA) के तहत जिन संपत्तियों को कुर्क करने का अस्थाई आदेश जारी किया गया, उनमें कोचर का मुंबई आवास और उनसे जुड़ी एक कंपनी की संपत्तियां शामिल हैं. ईडी ICICI बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को दिये गये ऋण मामले में हुई कथित अनियमितताओं और मनी लांड्रिग मामले में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और अन्य के खिलाफ जांच कर रही है.

बैंक की कर्जदार कंपनी विडियोकॉन इंडस्ट्रीज द्वारा कोचर के पति की कंपनी में निवेश को लेकर गड़बड़ी के आरोपों के बाद चंदा कोचर ने अक्टूबर 2018 में इस्तीफा दे दिया था. हाल ही में उन्होंने अपने खिलाफ बैंक से जारी बर्खास्तगी लेटर को बंबई हाई कोर्ट में चुनौती दी है. उन्होंने कोर्ट से उस लेटर को वैध घोषित करने की मांग की है, जिसमें उन्होंने अक्टूबर 2018 में जल्दी रिटायरमेंट की घोषणा की थी और बैंक ने स्वीकार कर लिया था.

Related Posts

देश में कोयले की कमी दूर करने की कवायद, सरकार कर रही 100 #Coal_Blocks नीलाम करने की तैयारी

देश के कुल कोयला उत्पादन में कोल इंडिया की 80 प्रतिशत हिस्सेदारी है.  वहीं देश में 2018- 19 में 23.50 करोड़ टन कोयले का आयात किया गया. 

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें : SC के फैसले के बाद अब आसान नहीं होगा विरोध-प्रदर्शन व असहमति की आजादी को दबाना

विडियोकॉन ग्रुप को आईसीआईसीआई बैंक से 3,250 करोड़ का लोन मिला था

जान लें कि विडियोकॉन ग्रुप को 2012 में आईसीआईसीआई बैंक से 3,250 करोड़ रुपये का लोन मिला था. यह लोन कुल 40 हजार करोड़ रुपये का एक हिस्सा था जिसे विडियोकॉन ग्रुप ने एसबीआई के नेतृत्व में 20 बैंकों से लिया था. आरोप है कि विडियोकॉन ग्रुप के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने 2010 में 64 करोड़ रुपये न्यूपावर रीन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटेड (NRPL) को दिये थे. इस कंपनी को धूत ने दीपक कोचर और दो अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर खड़ा किया था.

आरोप है कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर समेत उनके परिवार के सदस्यों को कर्ज पाने वालों की तरफ से वित्तीय फायदे पहुंचाये गये. आरोप है कि आईसीआईसीआई बैंक से लोन मिलने के 6 महीने बाद धूत ने कंपनी का स्वामित्व दीपक कोचर के एक ट्रस्ट को 9 लाख रुपये में ट्रांसफर कर दिया.

इसे भी पढ़ें : #Cyrus_Mistry को  टाटा ग्रुप का एग्जिक्यूटिव चेयरमैन बनाने के NCLAT के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like