Lead NewsNationalSports

Praveen Kumar ने हाई जंप में महज 18 साल की उम्र में रचा इतिहास, दिलाया सिल्वर मेडल

तीसरे प्रयास में प्रवीण कुमार ने 2.06 मीटर की छलांग लगाई

New Delhi : टोक्यो में जारी पैरालंपिक गेम्स में भारत का शानदार प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. शुक्रवार का दिन भारत के लिए बेहद अच्छा रहा है. शुक्रवार को भारत की झोली में एक और सिल्वर मेडल आया है. प्रवीण कुमार ने हाई जंप T64 इवेंट में भारत को ना सिर्फ मेडल दिलाया बल्कि वह इतिहास रचने में भी कामयाब हो गए हैं.

प्रवीण कुमार उत्तर प्रदेश को गौतम बुद्ध जिले के रहने वाले हैं. प्रवीण ने महज 18 साल की उम्र में ही पैरालंपिक गेम्स में भारत को सिल्वर मेडल दिलाया है. प्रवीण कुमार का जन्म 15 मई 2003 को हुआ था. प्रवीण को पैरालंपिक गेम्स की शुरुआत से ही मेडल का तगड़ा दावेदार माना जा रहा था.

इसे भी पढ़ें :24 घंटे के भीतर दूसरी बार गोमो जंक्शन पर बेपटरी हुई ट्रेन, कोई हताहत नहीं

Catalyst IAS
ram janam hospital

भारत के नए सितारे

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

प्रवीण कुमार करोड़ों भारतीयों की उम्मीदों पर पूरी तरह से खरे उतरे. इंटरनेशनल गेम्स में डेब्यू करने के दो साल बाद ही प्रवीण कुमार भारत के नए सितारे बनकर उभरे हैं. प्रवीण कुमार ने शुक्रवार को खेले गए फाइनल में अपने हर प्रयास के साथ प्रदर्शन में सुधार किया. अपने तीसरे प्रयास में प्रवीण कुमार ने 2.06 मीटर की छलांग लगाकर भारत की झोली में सिल्वर मेडल डाल दिया.

इसे भी पढ़ें :Twitter यूजर्स सावधानः प्लेटफार्म पर गाली-गलौज किये तो 7 दिनों के लिये बंद हो जायेगा एकाउंट

एशियन रिकॉर्ड तोड़ा

प्रवीण कुमार अब T64 इवेंट में सबसे ऊंची छलांग लगाने वाले एशियाई खिलाड़ी बन गए हैं. अपने तीसरे प्रयास में 2.06 मीटर की छलांग लगाकर प्रवीण कुमार ने एशियन रिकॉर्ड को अपने नाम किया है.

यह पहला मौका नहीं है जब प्रवीण कुमार चर्चा में आए हैं. इससे पहले प्रवीण कुमार 2019 वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी कमाल कर चुके हैं. वर्ल्ड चैंपियनशिप में प्रवीण कुमार को चौथा स्थान मिला था, लेकिन 16 साल की उम्र में ही ऐसा कारनामा करने की वजह से प्रवीण कुमार को काफी सराहा गया.

इसे भी पढ़ें :सिद्धार्थ शुक्ला की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट  अस्पताल ने पुलिस को सौंपी, जानें क्या है रिपोर्ट में

प्रवीण कुमार का एक पैर छोटा है

बता दें कि प्रवीण कुमार का एक पैर छोटा है और इसी को प्रवीण कुमार अब अपनी ताकत बना चुके हैं. प्रवीण कुमार ने जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में कोच सत्यपाल सिंह के अंडर में ट्रेनिंग लेकर हाई जंप में महारत हासिल की है. अपने करियर के शुरुआती दिनों में प्रवीण कुमार वॉलीबॉल में भी हाथ आजमा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में एडीबी के पैसे से शहरी जलापूर्ति का तैयार हो रहा डीपीआर

Related Articles

Back to top button