न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

…तो नीतीश कुमार को पीएम बनवाने की फिल्डिंग कर रहे हैं प्रशांत किशोर?

 इकॉनोमिक टाइम्स के अनुसार प्रशांत किशोर ने अपनी पार्टी यानी जदयू के अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार को पीएम बनाने के पक्ष में भी लॅाबिंग की.

72

Mumbai : जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मंगलवार पांच फरवरी को मुंबई में शिव सेना सुप्रीमो सहित अन्य आला नेताओं से मुलाकात की थी. इसे लेकर खबरों का बाजार गर्म हो गया है. जानकारी के अनुसार इस दौरान प्रशांत किशोर ने एक तीर से कई निशाने साधने की कोशिश की.  इकॉनोमिक टाइम्स के अनुसार प्रशांत किशोर ने उद्धव ठाकरे के साथ लोकसभा चुनावों के लिए शिव सेना की चुनावी रणनीति संभालने के संदर्भ में चर्चा की.  शिवा सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से यह भी कहा कि वे हर हाल में एनडीए में बने रहें. अखबार के अनुसार इसी क्रम में प्रशांत किशोर ने अपनी पार्टी यानी जदयू के अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार को पीएम बनाने के पक्ष में भी लॅाबिंग की.  शिव सेना सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि अगर आगामी लोकसभा चुनाव के परिणाम त्रिशंकु रहते हैं तब किशोर ने नीतीश कुमार को पीएम बनाने का फार्मूला उद्धव ठाकरे के समक्ष रखा.

ईटी के अनुसार प्रशांत किशोर ने शिव सेना की बैठक में आगामी चुनावों के बाद की परिस्थितियों पर चर्चा की. समझाया कि अगर भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए को पूर्ण बहुमत नहीं मिलता है तब नीतीश कुमार जैसे चेहरे को आगे कर उन गैर एनडीए क्षेत्रीय दलों से समर्थन लिया जा सकता है जो गैर कांग्रेसी सरकार चाहते हैं.

गैर भाजपा-गैर कांग्रेस दलों के 100 सांसद जीत कर आ सकते हैं

hosp3

किशोर मानते हें कि इन दलों के 100 सांसद जीत कर संसद में आ सकते हैं। सूत्रों के अनुसार किशोर ने वाईएसआर कांग्रेस, तेलंगाना राष्ट्र समिति, बीजू जनता दल और एआईएडीएमके को ऐसे क्षेत्रीय दल माना है,जो जरूरत पड़ने पर नीतीश कुमार को पीएम के रूप में समर्थन दे सकते हैं.  बता दें कि पिछले साल राज्य सभा के उप सभापति के चुनाव में भी नीतीश की पार्टी के उम्मीदवार को बीजू जनता दल ने समर्थन दिया था. बता दें कि प्रशांत किशोर  उद्धव ठाकरे के अलावा उनके बेटे आदित्य ठाकरे और पार्टी सांसद संजय राउत से भी मिले. इस संबंध में संजय राउत ने बताया कि किशोर ने आगामी लोकसभा चुनाव में शिव सेना के लिए इलेक्शन कैम्पेनिंग से जुड़े काम का ऑफर दिया है.

इसके अलावा किशोर ने आगामी चुनाव परिणाम और आगे की राजनीतिक संभावनाओं और सरकार बनने की संभावनाओं पर भी चर्चा की.  बता दें कि किशोर की टीम आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस के लिए भी काम कर रही है.  2014 के लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर ने भाजपा के साथ काम किया था.

इसे भी पढ़ें : कोचीन यूनिवर्सिटी कैंपस धर्मनिरपेक्ष, उत्तर भारतीय छात्रों को सरस्वती पूजा की इजाजत नहीं, विवाद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: